विपक्ष के अहंकार, प्रपंच के कारण संसद को 130 करोड़ रुपए का नुकसान : भाजपा

नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी ने संसद की कार्यवाही नहीं चलने देने के लिए विपक्ष को आड़े हाथों लेते हुए आज कहा कि अहंकार एवं प्रपंच में डूबे विपक्ष की मनमानी और लोकतंत्र के अपमान किए जाने के कारण सरकारी खजाने को 130 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ है। इससे पता चलता है कि उनके दिलोदिमाग में राष्ट्रीय हित का कोई स्थान नहीं है।

भाजपा के वरिष्ठ नेता रवि शंकर प्रसाद ने पार्टी के केंद्रीय कार्यालय में एक संवाददाता सम्मेलन में संसद की कार्यवाही न चलने देने के लिए कांग्रेस और अन्य विपक्षी पार्टियों पर जम कर प्रहार किया। प्रसाद ने कहा कि ऐसा अनुमान है कि कांग्रेस के नेतृत्व वाले विपक्ष की मनमानी और लोकतंत्र का अपमान किए जाने के कारण मानसून सत्र के दौरान लगातार व्यवधानों से सरकारी खजाने को 130 करोड़ रुपए से अधिक का नुकसान हुआ है।

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में केंद्र की भाजपा सरकार के सात वर्ष पूरे हो चुके हैं लेकिन अहंकार और प्रपंच के घातक कॉकटेल ने भारत की ग्रैंड ओल्ड पार्टी कांग्रेस को अब तक नहीं छोड़ा है।

1947 के बाद से सबसे लंबे समय तक देश पर शासन करने के बावजूद यह विडंबना ही है कि कांग्रेस के आचरण में संसदीय लोकाचार और कार्यवाही के लिए सम्मान बिलकुल भी नहीं है। इसका कारण यह है कि कांग्रेस एक राजनीतिक दल की तुलना में एक निजी कंपनी की तरह अधिक कार्य कर रही है, जिसका एकमात्र उद्देश्य एक वंश के हितों की रक्षा करना है।

उन्होंने कहा कि वर्तमान स्थिति पर चर्चा करने से पहले हमें एक बार अतीत में अवश्य झांक लेना चाहिए। कांग्रेस द्वारा संसदीय प्रणाली व्यवस्था का दमन कोई नई बात नहीं है। कांग्रेस द्वारा संसदीय व्यवस्था और संसद के सम्मान पर कुठाराघात 1975 में तब चरम पर पहुंच गया था जब तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की कुर्सी अदालत के निर्णय से खतरे में थी लेकिन तमाम लोकतांत्रिक मूल्यों को ध्वस्त करते हुए और अदालत के आदेश को धता बताते हुए इंदिरा गांधी ने देश में आपातकाल लागू कर दिया था। 2008 का विश्वास मत भी हमारे संसदीय इतिहास के सबसे काले क्षणों में से एक है।

प्रसाद ने कहा कि हमारे संसदीय इतिहास ने एक अलग पैटर्न देखा है- जब तक एक राजवंश के हितों की रक्षा की जाती है, तब तक संसद को काम करने की ‘अनुमति’ दी जाती है – यही कांग्रेस की कार्य संस्कृति है। संसदीय राजनीति संवाद के आधार पर चलती है – राजनीतिक दुश्मनी का मतलब कभी भी व्यक्तिगत दुश्मनी नहीं था लेकिन कांग्रेस ने उस भावना का कभी पालन ही नहीं किया।

1999 में, कांग्रेस ने अविश्वास प्रस्ताव में एक अनैतिक कदम पर जोर दिया, यह अच्छी तरह से जानते हुए भी कि यह संसदीय लोकाचार के अनुरूप नहीं था। राष्ट्रपति भवन के प्रांगण में ‘हमारे पास 272’ के घमंड भरे दावे बताते हैं कि कांग्रेस ने लोकतांत्रिक ढंग से चुनी गई वाजपेयी की सरकार को अस्थिर करने के लिए हर संभव कोशिश क्यों की थी।

उन्होंने कहा कि 2001 में, कांग्रेस ने एक नया ड्रामा शुरू किया था कि जॉर्ज फर्नांडीस जब भी संसद में उठते थे तो कांग्रेस उनका बहिष्कार करने लगती थी। यह कोई संयोग नहीं था कि फर्नांडीस अब तक के सबसे कट्टर कांग्रेस विरोधी नेताओं में से एक बने रहे। हमारे संसदीय इतिहास में ऐसा ‘मैन-टू-मैन मार्किंग’ अनसुना-सा था। उन्होंने मौजूदा संसदीय सत्र में कांग्रेस के रवैये के कारणों का उल्लेख करते हुए कहा कि संसदीय सत्र के दौरान कांग्रेस का शर्मनाक आचरण दो आशंकाओं से उपजा है। पहला- भाजपा के हाथों बार-बार चुनावी हार की थाह लेने में असमर्थता और दूसरा- अन्य विपक्षी दलों के साये में आने का डर।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस नेताओं के मन में संसद के प्रति सम्मान, सत्र के दौरान उनके आचरण में देखा जा सकता है। गम्भीर चर्चाओं के बजाय वे आंख मारने और जबरदस्ती गले पड़ने जैसी हरकतों में लिप्त हो जाते हैं। संसद सत्र के बीच से ही गायब हो जाने के साथ-साथ सदन में कांग्रेस के शीर्ष नेताओं का उपस्थिति रिकॉर्ड भी काफी निराशाजनक है।

उन्होंने कहा कि इस तरह का अस्तित्व-संकट, कांग्रेस नेतृत्व को बचकाने और अपरिपक्व कदम उठाने की ओर ले जा रहा है जो उनके संसदीय आचरण में परिलक्षित हो रहा है। सत्तापक्ष ने साफ तौर पर कहा है कि वे सभी विषयों पर चर्चा करने को तैयार हैं। फिर भी, कांग्रेस के शीर्ष-नेतृत्व ने व्यवधान के मार्ग को चुनते हुए निम्नतम स्तर तक जाना पसंद किया है।

उन्होंने कहा कि यह एक निर्विवाद सत्य है कि मोदी सरकार के दोनों कार्यकालों में संसदीय उत्पादकता लगातार उच्च रही है। इसमें राज्यसभा भी शामिल है, जहां सरकार के पास अपने कार्यकाल के शुरुआती दिनों में संख्याबल का अभाव था। फिर भी, सरकार ने नेताओं के साथ मिलकर काम किया और सुचारु सत्र सुनिश्चित किया।

प्रसाद ने कहा कि मोदी सरकार हर राष्ट्रीय मुद्दों पर बहस करने के लिए तैयार रही है। चाहे सीमा मुद्दों पर चर्चा की बात हो या स्वास्थ्य संबंधी चुनौतियों पर, राजग ने व्यापक सर्वदलीय बैठकें बुलाई हैं। इन दोनों बैठकों में प्रधानमंत्री स्वयं उपस्थित रहे और उन्होंने वक्तव्य भी दिए। ताज्जुब की बात यह है कि कांग्रेस द्वारा कोविड-19 जैसे संवेदनशील मुद्दे पर चर्चा के लिए आहूत बैठक का बहिष्कार केवल क्षुद्र राजनीतिक विचारों के कारण किया गया। संख्याबल के नाम पर ‘रचनात्मक रूप से विनाशकारी’ तरीके अपनाए गए।

उन्होंने याद दिलाया कि सत्ता में रहते हुए संप्रग ने दर्जनों विधेयकों को या तो बिना बहस के या हंगामे के साथ पारित कर दिया। इसमें प्रतिस्पर्धा (संशोधन) विधेयक 2007, सिगरेट और अन्य तंबाकू उत्पाद (विज्ञापन का निषेध और व्यापार और वाणिज्य, उत्पादन, आपूर्ति और वितरण का विनियमन) संशोधन विधेयक 2007, अखिल भारतीय चिकित्सा संस्थान, विज्ञान और स्नातकोत्तर चिकित्सा शिक्षा और अनुसंधान संस्थान (संशोधन) अधिनियम, 2007 आदि कई विधेयक ऐसे ही पारित कर दिए गए थे।

प्रसाद ने कहा कि आज देश की नजर हमारे सांसदों पर है। कड़ी मेहनत से कमाए गए करदाताओं के पैसे उन पर कानून बनाने, बहस करने और राष्ट्रीय महत्व के मुद्दों को उठाने के लिए खर्च किये जाते हैं। लेकिन दुर्भाग्य से, ‘राष्ट्रीय’ और ‘हित’ ये दो शब्द हमारे कांग्रेस नेताओं के दिमाग में नहीं हैं।

अभी भी समय है- उनके पास देश को यह दिखाने के लिए कि वे चर्चा और मर्यादा में रुचि रखते हैं। उनके पास कई मुद्दों को उठाने का अवसर है, उसी तरह सरकार को भी विपक्ष के असत्य को उजागर करने के लिए पर्याप्त समय दिया जाना चाहिए। यही बात संसदीय लोकतंत्र को जीवंत बनाती है।