राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ को लेकर राहुल गांधी हैं आक्रांत : भाजपा

‘RSS made Rahul Gandhi Congress president’: BJP mocks him for ‘milking’ Sterlite violence

नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी ने स्टरलाइट हिंसा मामले को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जोड़ने पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के सामान्य ज्ञान पर आज सवाल खड़े किए तथा कहा कि संघ को लेकर वह कुछ ज्यादा ही आक्रांत रहते हैं।

भाजपा के प्रवक्ता संबित पात्रा ने पार्टी मुख्यालय में नियमित प्रेस ब्रीफिंग में व्यंग्यात्मक लहजे में कहा कि राहुल गांधी मन में आरएसएस के प्रति इतना आक्रांत रहते हैं कि एक दिन वह यह भी कह सकते हैं कि संघ ने ही उन्हें कांग्रेस के अध्यक्ष पद पर बिठाया है। उन्होंने कहा कि आप (राहुल गांधी) हर चीज के लिए आरएसएस को जिम्मेदार ठहराते हैं। कल आप यह न कह दें कि आरएसएस ने मुझे कांग्रेस अध्यक्ष बना दिया।

प्रवक्ता ने कहा कि राहुल गांधी का सामान्य ज्ञान तो देखिए कि वह तनावपूर्ण और दुखद स्थिति में भी राजनीतिक लाभ लेने का प्रयास कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि गांधी ने तूतिकोरिन की हिंसा के लिए आरएसएस को जिम्मेदार ठहराया है, लेकिन उन्हें इतना सामान्य ज्ञान नहीं है कि संघीय ढांचे में कानून एवं व्यवस्था राज्य सरकार का विषय है।

पात्रा ने कहा कि गांधी का सामान्य ज्ञान दुरुस्त करने के लिए भाजपा उन्हें कक्षा छह की नागरिक शास्त्र की पुस्तक भेंट करेगी। उन्होंने कहा कि राहुल जी, आपने कई बार गलतियां की हैं। आज भारी मन से मैं देश की सबसे बड़ी पार्टी के अध्यक्ष को कहना चाहता हूं कि हम आपको कक्षा-छह की नागरिक शास्त्र की किताब भेंट करेंगे, ताकि आप लोकतंत्र, संविधान एवं संघीय ढांचे की जानकारी हासिल कर सकें।

गौरतलब है कि कांग्रेस अध्यक्ष ने ट्वीट किया है कि तूतिकोरिन में लोगों की हत्या इसलिए हो रही है, क्योंकि उन्होंने आरएसएस की विचारधारा मानने से इन्कार कर दिया है।

मोदी सरकार के चार साल के शासन को विश्वासघात कहने पर भी भाजपा ने कांग्रेस पर पलटवार किया। पात्रा ने कहा कि वर्ष 2004 से 2014 तक 12-14 लाख करोड़ रुपए लूटकर अब कांग्रेस विश्वासघात दिवस मनाएगी। उन्होने कहा कि आजादी के बाद भी 18,000 गांवों में बिजली नहीं पहुंची थी, 50 प्रतिशत लोगों के बैंक में खाते नहीं थे और अब कांग्रेस विश्वासघात दिवस मनाएगी।

गांधी पर हमला बोलते हए उन्होंने कहा कि अपने असफलताओं और अक्षमताओं को राहुल गांधी आरएसएस का नाम लेकर छुपाने का प्रयास करते हैं। यह सच है कि श्री गांधी को कांग्रेस का अध्यक्ष पद भले ही विरासत में मिला है, लेकिन सूझबूझ और समझ विरासत में नहीं मिल सकती।