रणछोड की गिरफ्तारी पर गोपालन मंत्री चुप रहे तो बोल पडे लोढा, लिया आडे हाथों

सिरोही। उपचुनावों में कांग्रेस की जीत पर सरजावाव दरवाजे पर जश्न मनाते कांग्रेस जन।

सबगुरु न्यूज सिरोही। राजस्थान में लोकसभा की दो और विधानसभा की एक सीट पर भाजपा को बुरी तरह परास्त करने के बाद कांग्रेस ने जिला मुख्यालय स्थित सरजावाव दरवाजे पर जश्न मनाया। इस दौरान राज्यमंत्री और सिरोही के विधायक ओटाराम देवासी की विफलता को अप्रत्यक्ष रूप से आडे हाथों लेते हुए लोढा ने रणछोड रेबारी को प्रशासन द्वारा पीटे जाने और जेल में डाले जाने पर अपनी आपत्ति जताई।

पूर्व विधायक संयम लोढा ने कहा कि सिरोही में बाढ के वक्त अपनी जान पर खेलकर 150 लोगों की जान बचाने वाले रणछोड रेबारी को जेल में बंद करने वाली सरकार है। उसके अपमान के संबंध में प्रशासन से वार्ता करने गए नौजवानों के खिलाफ राजकार्य में बाधा का झूठा मुकदमा करने वाली सरकार है। इस भ्रष्ट और जनविरोधी भाजपा सरकार को नौ माह बाद उखाड फेंकने के लिए कांग्रेसजन कमर कस ले।

लोढा ने कहा कि भाजपा सरकार गरीबों को मिलने वाला एक रुपया प्रति किलो गेहूं बंद करने वाली सरकार है। खाद्य सुरक्षा में दो रुपए प्रति किलो गेहूं पाने वालों की सूची से आठ लाख परिवारों का नाम काटने वाली सरकार है। बुजुर्गों को प्रति माह मिलने वाली पेंशन सूची से नौ लाख लोगों का नाम काटने वाली सरकार है।

उपचुनावों में प्रदेश में जीत पर कांग्रेसजनों ने नाच गाकर करके प्रसन्नता जताई। लम्बे अर्से से जीत का जश्न मनाने को तरस रही कांग्रेस को 4 साल बाद इस तरह का मौका मिला, इस कारण कांग्रेस कार्यकर्ता खूब देर तक नाचते रहे।

कृषि उपज मंडी सुमेरपुर के उपाध्यक्ष हबीब शेख, पूर्व प्रधान मोतीसिंह देवडा, भगवतसिंह देवडा, वरिष्ठ कांग्रेस नेता सुरेन्द्र भाई जैन, विनोद देवडा, बाबू खान, महिला जिलाध्यक्ष हेमलता शर्मा, एनएसयूआई के जिलाध्यक्ष सुरेशसिंह राव, दशरथ नरूका, गोविंदसिंह नारादरा, बागसीन सरपंच पूरणसिंह देवडा, गणपतसिंह वेलांगरी, पंचायत समिति सदस्य पूरण कंवर, गीता चैधरी, मीरा सेन, महेन्द्रसिंह गेहलोत, नोटीसिंह कालंद्री, छगन टांक, पिंडवाडा ब्लाॅक अध्यक्ष राकेश रावल, एसटी प्रकोष्ठ के निम्बाराम गरासिया, खीमसिंह, पार्षद गोपी मेघवाल, पिंकी रावल, नैनाराम माली, प्रतिपक्ष नेता ईश्वरसिंह डाबी, संजय गर्ग, उपप्रधान मोटाराम देवासी, पूर्व प्रधान अचलाराम माली, महेन्द्र रावल, हीराराम देवासी, अजरूद्दीन, आजाद मेघवाल, छगन सुथार, सिराज मेनन, जेसाराम मेघवाल गोयली, महेन्द्र रावल, उगमसिंह, सत्तार गुजराती, कालूराम माली, नारायण डाबी, प्रमोद प्रजापत, मांगूसिंह, प्रकाष मेघवाल, दिनेष माली, अल्ताफ सिलावट, मुजफर बैग, तेजाराम मेघवाल, देवाराम जामोतरा, राजेन्द्र माली गोयली, चेतन प्रजापत, गोविंद राम, कुलदीप मेघवाल, प्रमोद प्रजापत, राजू माकरोडा, गोवाराम जावाल सहित सैकडों की तादाद में कांग्रेसी कार्यकर्ता उपस्थित थे।