न रैली न अनुरोध , सिरोही में स्वेच्छिक बंद का व्यापक असर

सिरोही जिला मुख्यालय पर बन्द पड़ा नया बस स्टैंड बाजार।
सिरोही जिला मुख्यालय पर बन्द पड़ा नया बस स्टैंड बाजार।

सबगुरु न्यूज-सिरोही। बिना किसी रैली और अनुुुुरोध के जिला मुख्यालय पर अनुसूचित जाति जनजाति अधिनियम के बारे में सुप्रीम कोर्ट द्वारा दी गयी व्यवस्था के  खिलाफ जो अध्यादेश केंद्र सरकार लायी है उसके विरोध का जबरदस्त असर देखा गया।हालात ये रहे कि शहर तो शहर छोटे छोटे गांवों में भी स्वैच्छिक बाद का असर रहा। बुधवार को ऑटो घूमने की बात जरूर कही जा रही है, लेकिन पूर्व की तरह सभी मंडलों की बैठक की कोई जानकारी सामने नहीं आयी है। कई जगह रैली और प्रदर्शन किया लेकिन कहीं से भी उत्पात के कोई समाचार नहीं हैं।

सिरोही जिले मुख्यालय पर sc-st एक्ट के संशोधित अध्यादेश के खिलाफ बन्द के दौरान निरीक्षण करते पुलिस अधीक्षक।
सिरोही जिले मुख्यालय पर sc-st एक्ट के संशोधित अध्यादेश के खिलाफ बन्द के दौरान निरीक्षण करते पुलिस अधीक्षक।

जिला मुख्यालय पर आम तौर पर 10 बजे बाजर खुल जाता है, लेकिन 12 बजे तक बाजारों में दुकानें नहीं खुली। आम तौर पर सिरोही में बंद करने से पूर्व बन्द का आह्वान करने वाला संगठन एक दिन पूर्व व्यापारिक संगठनों से अनुरोध भी करता है। लेकिन, गुरुवार के बंद से पहले इस तरह का कोई अनुरोध नहीं किया गया और न ही गुरुवार को किसी तरह की रैली या प्रदर्शन किया गया। इसके बावजूद सदर बाजार, बस स्टैंड मार्ग, राजमाता धर्मशाला मार्ग, जेल रोड के अलावा गलियों की दुकानें और प्रतिष्ठान बंद रहे।

सिरोही कलक्ट्री में कार्य बहिष्कार के कारण आराम की मुद्रा में लोग।
सिरोही कलक्ट्री में कार्य बहिष्कार के कारण आराम की मुद्रा में लोग।

पूरे जिले में दोपहर तक किसी तरह की कोई अप्रिय घटना की सूचना नहीं है। भारत बंद को लेकर पुलिस अधीक्षक जय यादव और अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक पन्नालाल मीना सिरोही शहर समेत जिले के इलाकों में गश्त करते रहे। ग्रामीण क्षेत्रों में प्रधानमंत्री का पुतला फूंका गया।

सिरोही जिला अभिभाषक संघ कार्यालय में sc-st एक्ट के संबंध में बंद को लेकर कार्यस्थगन करने को लेकर चर्चा करते अधिवक्ता।
सिरोही जिला अभिभाषक संघ कार्यालय में sc-st एक्ट के संबंध में बंद को लेकर कार्यस्थगन करने को लेकर चर्चा करते अधिवक्ता।

-वकील मंडल ने की निंदा
जिला अभिभाषक संघ की बैठक अध्यक्ष मानसिंह देवड़ा की मौजूदगी में बैठक हुई। इसमें सर्वसम्मति से प्रस्ताव लिया गया कि जिस अधिवक्ता का इस विरोध में शामिल होना है वो स्वैच्छिक रूप से निर्णय ले सकता है। वरिष्ठ अधिवक्ता प्रवीण दवे ने असहमति भी जताई।

वहीं आनन्द देव ने 2 अप्रैल के बन्द की तरह सामूहिक कार्यस्थगन की बजाय स्वैच्छिक बन्द की बात कही। इस पर अध्यक्ष ने हाथ उठवाकर मत करवाया, इसके आधार पर स्वेच्छिक कार्यस्थगन का निर्णयकिया।

गर्मागर्म बहस के बीच वरिष्ठ अधिवक्ता राजेन्द्र सुराणा ने केंद्र सरकार द्वारा सुप्रीम कोर्ट के निर्णय को परिवर्तित करके sc/st एक्ट पर जो अध्यादेश लाया है उसकी निंदा की और सुप्रीम कोर्ट के निर्णयों को लागू करने की बात कही गयी। वही कुछ अधिवक्ता तटस्थ मुद्रा में रहे। पिंडवाड़ा न्यायालय में भी कार्यस्थगन रहा।
-इनका कहना है..
जिले में कहीं भी किस तरह की अप्रिय घटना नहीं हुई है। सभी जगह पूरा दिन शांतिपूर्ण रहा।
जय यादव
पुलिस अधीक्षक, सिरोही।

देखिये सिरोही में बंद के वीडियो…