विपक्ष के नेता के तौर पर भाजपा के वरिष्ठ नेताओं को राजस्थान आना चाहिए : गहलोत

जयपुर। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने दलित युवक की हत्या की घटना के मामले में भारतीय जनता पार्टी के राहुल कांग्रेस नेता राहुल गांधी एवं प्रियंका गांधी के राजस्थान आना चाहिए के बयान पर पलटवार करते हुए कहा है कि देश एवं प्रदेश में भाजपा के नेता बेवकूफी की बातें कर रहे हैं जबकि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, गृहमंत्री अमित शाह एवं भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा को यहां आना चाहिए।

गहलोत ने आज सचिवालय की पार्किंग का उद्घाटन के मौके पर मीडिया से यह बात कही। उन्होंने कहा कि ऐसे मूर्ख भाजपा के पदाधिकारी बन गए हैं, जिन्हें इतना भी सेंस नहीं है कि किस तरह की घटना पर क्या किया जाता है।

उन्होंने कहा कि वह पहली बार ऐसे नेताओं को देख रहे हैं जो मुख्यमंत्री के उम्मीदवार बनकर बैठे हैं और बेवकूफी की बातें कर रहे हैं। जो कहते हैं कि राजस्थान में प्रियंका गांधी और राहुल गांधी क्यों नहीं आते हैं। भाजपा नेता खाली बैठे-बैठे अखबारबाजी एवं सोशल मीडिया पर बयान करते रहते हैं।

उन्होंने कहा कि राजस्थान में हमारी सरकार है, तो क्या राहुल और प्रियंका गांधी यहां किसी घटना पर आएंगे या विपक्ष के नेता के तौर पर भाजपा के वरिष्ठ नेताओं को यहां आना चाहिए। राजस्थान में प्रधानमंत्री, गृहमंत्री, नड्‌डा को आना चाहिए और पता करना चाहिए कि हनुमानगढ़ में क्या हुआ। घटना क्यों हुई।

जहां विपक्षी पार्टी की सरकारें हैं, वहां उन्हें आकर देखना चाहिए। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश हो या अन्य राज्य जहां भाजपा की सरकारें हैं, वहां हम विपक्ष के तौर पर जाएंगे। उन्होंने कहा कि वह घटना की निंदा करते हैं। इस मामले में कार्रवाई की गई है और आरोपियों को पकड़ लिया गया है।

उल्लेखनीय है कि भाजपा ने पीलीबंगा में दलित युवक की हत्या मामले में तथ्यों की जांच के लिए एक प्रतिनिधिमंडल भेजा गया है।