लॉकडाउन में छूट मिलने से 33 हजारी हुआ सेंसेक्स

मुंबई। ‘कंटेनमेंट जोन’ को छोड़कर पूरे देश में सभी प्रकार की आर्थिक गतिविधियों की छूट देने के केंद्र सरकार के फैसले के बाद आज घरेलू शेयर बाजारों में तूफानी तेजी देखी गयी और बीएसई सेंसेक्स एक महीने बाद फिर 33 हजार अंक के पार पहुंचने में सफल रहा।

घरेलू स्तर पर मजबूत निवेश धारणा तथा विदेशों से मिले सकारात्मक संकेतों के बीच सेंसेक्स 879.42 अंक यानी 2.71 प्रतिशत चढ़कर 33,303.52 अंक पर और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 245.85 अंक अर्थात् 2.57 फीसदी की बढ़त में 9,826.15 अंक पर बंद हुआ। दोनों प्रमुख सूचकांकों का यह 30 अप्रैल के बाद का उच्चतम स्तर है।

चौतरफा लिवाली के बीच निवेशकों की पूँजी एक ही दिन तीन लाख करोड़ रुपये से अधिक बढ़ गयी। बीएसई का बाजार पूँजीकरण 127.07 लाख करोड़ रुपये से बढ़कर 130.19 लाख करोड़ रुपये पर पहुंच गया।

मझौली और छोटी कंपनियों में भी निवेशकों ने खूब विश्वास दिखाया। बीएसई का मिडकैप 2.65 प्रतिशत चढ़कर 12,157.40 अंक पर और स्मॉलकैप 3.03 फीसदी की मजबूती के साथ 11,222.76 अंक पर बंद हुआ।

केंद्र सरकार ने 01 जून से 30 जून तक लॉकडाउन का पांचवां चरण लागू किया है। इसमें ‘कंटेनमेंट जोन’ के बाहर हर प्रकार की आर्थिक गतिविधियों की अनुमति दी गई है। होटल, रेस्त्रां और शॉपिंग मॉल भी 8 जून से खुल जाएंगे। सरकार के इस फैसले से अर्थव्यवस्था के प्रति निवेशकों की धारणा मजबूत हुई है।

घरेलू शेयर बाजारों में लगातार चौथे दिन बड़ी बढ़त देखी गई है। इन चार कारोबारी दिनों में सेंसेक्स 2,694.22 अंक यानी 8.80 प्रतिशत मजबूत हुआ है। निफ्टी भी इस दौरान 797.10 अंक यानी 8.83 फीसदी चढ़ चुका है।

टिकाऊ उपभोक्ता उत्पाद समूह के सूचकांक में सबसे अधिक साढ़े छह प्रतिशत की तेजी रही। धातु, बैंकिंग, वित्त एवं ऑटो क्षेत्र की कंपनियों में जबरदस्त लिवाली से इन समूहों के सूचकांक भी तीन से चार प्रतिशत के बीच चढ़े।

सेंसेक्स की कंपनियों बजाज फाइनेंस के शेयर 10 फीसदी से अधिक चढ़े। टाइटन में साढ़े सात प्रतिशत, टाटा स्टील में साढ़े छह प्रतिशत और भारतीय स्टेट बैंक में छह प्रतिशत से अधिक की तेजी रही। महिंद्रा एंड महिंद्रा के शेयर भी साढ़े पांच फीसदी चढ़े। सनफार्मा में दो प्रतिशत की गिरावट रही।

बीएसई के सभी समूहों में तेजी रही। टिकाऊ उपभोक्ता उत्पाद समूह का सूचकांक 6.56 प्रतिशत चढ़ गया। धातु समूह में 3.92 प्रतिशत, वित्त में 3.77, बैंकिंग में 3.26, सीडीजीएंडएस और ऊर्जा दोनों में 3.21, ऑटो में 3.20, रियलिटी में 2.65, इंडस्ट्रीयल्स में 2.16, आईटी में 2.12, बिजली में 1.95, टेक में 1.85, बुनियादी वस्तुओं में 1.52, यूटिलिटीज में 1.33, तेल एवं गैस में 1.30, एफएमसीजी में 1.17, और पूँजीगत वस्तुओं में 1.09 प्रतिशत की तेजी रही।

सेंसेक्स की कंपनियों में बजाज फाइनेंस के शेयर सबसे ज्यादा 10.62 प्रतिशत चढ़े। टाइटन में 7.61 प्रतिशत, टाटा स्टील में 6.72, भारतीय स्टेट बैंक में 6.08, महिंद्रा एंड महिंद्रा में 5.73, एचडीएफसी में 4.72, इंडसइंड बैंक में 4.26, रिलायंस इंडस्ट्रीज में 3.77, एचडीएफसी बैंक में 3.75, टीसीएस में 3.71, एक्सिस बैंक में 3.56 और मारुति सुजुकी में 3.15 प्रतिशत की तेजी रही।

हिंदुस्तान यूनिलिवर के शेयर 2.42 प्रतिशत, टेक महिंद्रा के 2.38, कोटक महिंद्रा बैंक के 2.09, आईसीआईसीआई बैंक के 2.08, आईटीसी के 1.60, बजाज ऑटो के 1.32, एचसीएल टेक्नोलॉजीज के 1.27, भारती एयरटेल के 1.20, इंफोसिस के 1.18, पावरग्रिड के 0.86, ओएनजीसी के 0.84, एशियन पेंट्स के 0.54 और एनटीपीसी के 0.36 प्रतिशत की बढ़त में रहे।

सनफार्मा ने सर्वाधिक 2.17 प्रतिशत का नुकसान उठाया। नेस्ले इंडिया के शेयर 2.14 फीसदी, अल्ट्राटेक सीमेंट के 2.10, हीरो मोटोकॉर्प के 1.44 और एलएंडटी के 0.45 फीसदी टूट गए।