बजट के बाद गिरे बाजार, सेंसेक्स में 58 अंक की गिरावट

Sensex close down 58 points lower at 35906, nifty holds 11000 level post FM jaitley’s budget speech

मुंबई। देश के शेयर बाजारों में गुरुवार को 2018-19 का आम बजट पेश होने के बाद गिरावट दर्ज की गई। प्रमुख सूचकांक सेंसेक्स 58.36 अंकों की गिरावट के साथ 35,906.66 पर और निफ्टी 10.80 अंकों की गिरावट के साथ 11,016.90 पर बंद हुआ।

आम बजट पर शेयर बाजारों में तीखी प्रतिक्रिया देखने को मिली है। शुरू में बाजारों में तेजी थी, लेकिन दीर्घकालिक पूंजीगत लाभ (एलटीसीजी) कर की घोषणा के बाद से इसमें गिरावट होने लगी। अब एक साल बाद शेयर बेचने पर अगर एक लाख रुपये का मुनाफा होता है तो इस पर 10 फीसदी कर चुकाना होगा।

अभी एक साल से कम समय में शेयर बेचने पर 15 फीसदी का अल्पकालिक पूंजी लाभ कर देना होता है। इसमें कोई बदलाव नहीं किया गया है। नए कर से सरकार को 36,000 करोड़ रुपये की आय होगी।

बंबई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) का 30 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक सेंसेक्स सुबह 83.97 अंकों की तेजी के साथ 36,048.99 पर खुला और 58.36 अंकों या 0.16 फीसदी की गिरावट के साथ 35,906.66 पर बंद हुआ। दिनभर के कारोबार में सेंसेक्स ने 36,256.83 के ऊपरी और 35,501.74 के निचले स्तर को छुआ।

बीएसई के मिडकैप और स्मॉलकैप सूचकांकों में मिला-जुला रुख रहा। बीएसई का मिडकैप सूचकांक 93.30 अंकों की गिरावट के साथ 17,270.90 पर और स्मॉलकैप सूचकांक 0.63 अंकों की तेजी के साथ 18,717.40 पर बंद हुआ।

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का 50 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक निफ्टी सुबह 16.85 अंकों की तेजी के साथ 11,044.55 पर खुला और 10.80 अंकों या 0.10 फीसदी की गिरावट के साथ 11,016.90 पर बंद हुआ। दिनभर के कारोबार में निफ्टी ने 11,117.35 के ऊपरी और 10,878.80 के निचले स्तर को छुआ।

बीएसई के 19 में से सात सेक्टरों में तेजी रही, जिनमें पूंजीगत वस्तुएं (1.57 फीसदी), वाहन (0.67 फीसदी), तेज खपत उपभोक्ता वस्तुएं (0.64 फीसदी), औद्योगिक (0.57 फीसदी) और आधारभूत सामाग्री (0.42 फीसदी) में सर्वाधिक तेजी रही।

बीएसई के गिरावट वाले सेक्टरों में – उपभोक्ता टिकाऊ वस्तुएं (1.78 फीसदी), ऊर्जा (1.55 फीसदी), स्वास्थ्य सेवाएं (1.38 फीसदी), तेल एवं गैस (1.28 फीसदी) और बैंकिंग सेवाएं (0.64 फीसदी) प्रमुख रहे।

बजट 2018 : प्रमुख बातें
Budget 2018 : आयकर दरों में कोई राहत नहीं
Budget 2018 : 10 करोड़ गरीब परिवारों के लिए 5 लाख रुपए का हेल्थकवर
महिला स्वयं सहायता समूहों के लिए ऋण बढ़कर 75,000 करोड़ रुपए होगा
Budget 2018 : मोबाइल फोन पर सीमा शुल्क 15 प्रतिशत से बढ़ाकर 20 प्रतिशत
एक हजार बी.टेक छात्रों को पीएचडी के लिए प्रधानमंत्री फेलोशिप