सेंसेक्स 306 अंक लुढ़का, निफ्टी 106 अंक फिसला

Sensex plunged 306 points, Nifty below 10,450
Sensex plunged 306 points, Nifty below 10,450

मुंबई। अंतरराष्ट्रीय बाजारों से मिली गिरावट के खबरों के बीच धातु, तेल एवं गैस समूह में हुई जबरदस्त बिकवाली से बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 306.33 अंक की गिरावट के साथ 34,344.91 अंक पर और एनएसई का निफ्टी 106.35 अंक लुढ़ककर 10,430.35 अंक पर बंद हुआ।

अमरीका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप द्वारा चीन के साथ होने वाली बातचीत के प्रति नाखुशी जताने और उत्तर कोरिया के शासक किम जोंग उन के साथ होने वाली 12 जून की बैठक के प्रति संशय व्यक्त करने से एशियाई बाजारों में बिकवाली शुरू हो गई।

इसके अलावा पेट्रोल और डीजल के बढ़ते दाम को देखते हुए उपभोक्ताओं को इससे राहत दिलाने के लिए सरकार द्वारा तेल क्षेत्र से जुड़ी कंपनियों को इसका बोझ साझा करने के आदेश देने की आशंका से निवेशकों ने बिकवाली का रुख किया जिससे तेल एवं गैस क्षेत्र के समूह के सूचकांक में गिरावट देखी गई।

शेयर बाजार में आज हल्की राहत भारतीय स्टेट बैंक से मिली। एसबीआई द्वारा अगले दो साल में रिकवरी करने की घोषणा से उत्साहित होकर हुई लिवाली के दम पर बैंक ने सेंसेक्स में सबसे अच्छा प्रदर्शन किया।

मामूली बढ़त के साथ 34,656.63 अंक पर खुला सेंसेक्स कारोबार के दौरान 34,668.47 अंक के उच्चतम और 34,302.89 अंक के निचले स्तर से होता हुआ गत दिवस की तुलना में 0.88 प्रतिशत की गिरावट में 34,344.91 अंक पर बंद हुआ। सेंसेक्स की पांच कंपनियां हरे निशान में जगह बनाने में सफल रहीं। शेष 25 कंपनियां गिरावट में रहीं। बीएसई के सभी समूहों में गिरावट रही।

निफ्टी की शुरूआत गिरावट के साथ 10,521.10 अंक से हुई। कारोबार के दौरान 10,533.55 अंक के उच्चतम और 10,417.80 अंक के निचले स्तर से होता हुआ यह गत दिवस की तुलना में 1.01 प्रतिशत लुढ़ककर 10,430.35 अंक पर बंद हुआ। निफ्टी की एक कंपनी के शेयर में कोई बदलाव नहीं हुआ जबकि 35 में गिरावट और 14 में तेजी देखी गई।

दिग्गज कंपनियों की अपेक्षा छोटी आैर मंझोली कंपनियों पर बिकवाली कम हावी रही। बीएसई का मिडकैप 0.24 यानी 38.36 अंक की गिरावट में 15,699.75 अंक पर और स्मॉलकैप 0.47 यानी 80.11 अंक की गिरावट में 16,976.88 अंक पर रहा।

बीएसई में कुल 2,777 कंपनियों के शेयरों में कारोबार हुआ जिनमें 123 कंपनी के शेयरों के भाव अपरिवर्तित रहे जबकि 1,544 में गिरावट और 1,110 में तेजी देखी गई।

विदेशी बाजारों में गिरावट का रुख रहा। एशियाई बाजारों में दक्षिण कोरिया का कोस्पी 2.17, हांगकांग का हैंगशैंग 1.82, चीन का शंघाई कंपोजिट 1.41 और जापान का निक्की 1.18 प्रतिशत की गिरावट में बंद हुआ। यूरोपीय बाजारों में ब्रिटेन के एफटीएसई में 0.12 और जर्मनी के डैक्स में 0.28 फीसदी की गिरावट देखी गई।

बीएसई के सभी 20 समूहों के सूचकांक लुढ़क गये। सबसे अधिक गिरावट धातु में 3.93 फीसदी की रही। इसके साथ ही तेल एवं गैस के 3.45, बेसिक मैटेरियल्स में 2.11 और ऊर्जा समूह के 2.52 फीसदी लुढ़क गए।

सेंसेक्स की मात्र पांच कंपनियों में तेजी रही। एसबीआई में 3.56, एनटीपीसी में 0.82, एल एंड टी में 0.55, टाटा मोटर्स में 0.49 और महिंद्रा एंड महिंद्रा में 0.05 प्रतिशत की तेजी रही। टाटा स्टील के शेयरों में सबसे अधिक 6.57 प्रतिशत की गिरावट रही।

ओएनजीसी में 4.75, डॉ रेड्डीज में 2.92, इंडसइंड बैंक में 2.80, आईटीसी में 1.92, अदानी पोटर्स में 1.80, रिलायंस में 1.58, एचडीएफसी में 1.43, भारती एयरटेल में 1.41, बजाज ऑटो में 1.26, एचडीएफसी बैंक में 1.22, कोटक बैंक में 1.14, कोल इंडिया में 0.95, हीरो मोटोकॉर्प्स में 0.78, इंफोसिस में 0.70, मारुति में 0.68, विप्रो में 0.68, हिंदुस्तान यूनीलीवर में 0.66, एक्सिस बैंक में 0.56, एशियन पेंट्स में 0.55, टीसीएस में 0.31, सन फार्मा में 0.23, यस बैंक में 0.06, पावर ग्रिड में 0.05 और आईसीआईसीआई बैंक में 0.02 प्रतिशत की गिरावट रही।