रिकॉर्ड ऊँचाई पर पहुँचा सेंसेक्स

Sensex reaches record high
Sensex reaches record high

मुंबई। अमेरिका और चीन के बीच करीब डेढ़ साल से जारी व्यापार युद्ध समाप्त होने की उम्मीद में घरेलू शेयर बाजार सोमवार को लगातार सातवें दिन तेजी में रहे और बीएसई का सेंसेक्स 136.93 अंक यानी 0.34 प्रतिशत चढ़कर 40,301.96 अंक की रिकॉर्ड ऊँचाई पर बंद हुआ।

सेंसेक्स बीच कारोबार में नया कीर्तिमान बनाता हुआ 40,483.21 अंक तक पहुँचने में भी कामयाब रहा था। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी बीच कारोबार में 11,989.15 अंक तक चढ़ने के बाद 54.55 अंक यानी 0.46 प्रतिशत की बढ़त में 04 जुलाई के बाद के उच्चतम स्तर 11,945.15 अंक पर बंद हुआ।

अमेरिका और चीन ने गत शुक्रवार को कहा था कि व्यापार युद्ध को लेकर जारी वार्ता में सकारात्मक प्रगति हुई है। अधिकारियों ने बताया कि एक महीने के भीतर इस संबंध में समझौते की उम्मीद है। इससे विदेशी बाजारों में आज तेजी देखी गयी।
विदेशों से मिले सकारात्मक संकेतों के बीच घरेलू बाजारों में शुरू से ही तेजी रही। सेंसेक्स 128.82 अंक चढ़कर 40,293.85 अंक पर खुला और दोपहर से पहले ही 40,483.21 अंक के रिकॉर्ड स्तर पर पहुँच गया। ऑटो सेक्टर पर बने दबाव के कारण दोपहर बाद इसकी तेजी कुछ कम हुई, लेकिन यह पूरे दिन हरे निशान में बना रहा। 40,186.29 अंक के दिवस के निचले स्तर से होता हुआ यह गत दिवस की तुलना में 136.93 अंक ऊपर 40,301.96 अंक पर बंद हुआ जो अब का रिकॉर्ड बंद स्तर है।

इंफोसिस, एचडीएफसी और आईसीआईसीआई बैंक जैसी दिग्गज कंपनियों ने सेंसेक्स की बढ़त में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। सेंसेक्स में मारुति सुजुकी और हीरो मोटोकॉर्प के शेयर सबसे ज्यादा टूटे।

बीएसई की मझौली कंपनियों के सूचकांक मिडकैप में 0.01 प्रतिशत की मामूली तेजी रही और यह 14,892.15 अंक पर बंद हुआ। स्मॉलकैप 0.22 प्रतिशत की बढ़त में 13,630.66 अंक पर पहुँच गया। बीएसई में कुल 2,755 कंपनियों के शेयरों में कारोबार हुआ। इनमें 1,430 कंपनियों के शेयर बढ़त में और 1,152 कंपनियों के शेयर गिरावट में रहे जबकि 173 कंपनियों के शेयर दिन भर के उतार-चढ़ाव के बाद अंतत: अपरिवर्तित रहे।

निफ्टी 38.30 अंक की तेजी के साथ 11,928.90 अंक पर खुला। इसका दिवस का उच्चतम स्तर 11,989.15 अंक और निचला स्तर 11,905.35 अंक रहा। अंतत: यह गत दिवस की तुलना में 54.55 अंक ऊपर 11,945.15 अंक पर बंद हुआ। निफ्टी की 50 में से 27 कंपनियों में तेजी और शेष 23 में गिरावट रही।

विदेशों में अधिकतर शेयर बाजार हरे निशान में रहे। एशिया में चीन का शंघाई कंपोजिट 0.58 प्रतिशत, दक्षिण कोरिया का कोस्पी 1.43 प्रतिशत और हांगकांग का हैंगसेंग 1.65 प्रतिशत की तेजी में रहा। जापान का निक्की 0.33 प्रतिशत फिसल गया। यूरोप में शुरुआती कारोबार में ब्रिटेन का एफटीएसई 0.63 प्रतिशत और जर्मनी का डैक्स 0.93 प्रतिशत चढ़ा।

बीएसई के समूहों में धातु का सूचकांक 3.20 प्रतिशत, दूरसंचार का 2.11 प्रतिशत, बुनियादी वस्तुओं का 1.42 प्रतिशत, आईटी का 1.02 प्रतिशत और टेक का 0.97 प्रतिशत की तेजी में रहा। इनके अलावा ऊर्जा, वित्त, स्वास्थ्य, यूटिलिटीज, बैंकिंग, पूँजीगत वस्तुओं और तेल एवं गैस समूहों के सूचकांक भी हरे निशान में रहे। ऑटो में सर्वाधिक 1.29 प्रतिशत की गिरावट रही।

सेंसेक्स की कंपनियों में इंफोसिस के शेयर सबसे ज्यादा 3.05 प्रतिशत चढ़े। वेदांता में 2.88 प्रतिशत, एचडीएफसी में 2.48, टाटा स्टील में 2.33, ओएनजीसी में 2.22, आईसीआईसीआई में 1.79, बजाज फाइनेंस में 1.33, एशियन पेंट्स में 1.20, टेक महिंद्रा में 1.16, भारती एयरटेल में 1.11, एचसीएल टेक्नोलॉजीज में 0.27, भारतीय स्टेट बैंक में 0.22, सनफार्मा में 0.09, एलएंडटी में 0.07 और रिलायंस इंडस्ट्रीज में 0.02 प्रतिशत की तेजी रही।

सबसे ज्यादा 2.54 प्रतिशत की गिरावट मारुति सुजुकी के शेयरों में देखी गयी। हीरो मोटोकॉर्प के शेयर 2.34 प्रतिशत, इंडसइंड बैंक के 2.01, टाटा मोटर्स के 1.57, पावरग्रिड के 1.32, हिंदुस्तान यूनिलिवर के 0.95, एक्सिस बैंक के 0.82, येस बैंक के 0.75, एनटीपीसी के 0.74, बजाज ऑटो के 0.68, कोटक महिंद्रा बैंक के 0.66, महिंद्रा एंड महिंद्रा के 0.64, टीसीएस के 0.37, आईटीसी के 0.34 और एचडीएफसी बैंक के 0.30 प्रतिशत टूटकर बंद हुए।