कांग्रेस महासचिव प्रियंका वाड्रा के काफिले में घुसा भेड़ों का झुण्ड

प्रयागराज। उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में एक दिवसीय दौरे पर आई कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा के काफिले में उस समय भेड़ों का झुण्ड घुस गया जब वह कड़े सुरक्षा घेरे में यमुना नदी के किनारे निषाद समुदाय के लोगों से मिलने जा रही थी।

घूरपुर थाना क्षेत्र के बसवार गांव से करीब डेढ़ से दो किलोमीटर दूर यमुना नदी किनारे गत चार फरवरी को पुलिस ने कथित बालू खनन मामले को लेकर वहां के कुछ पुरूष, महिलाओं और बच्चों के साथ मारपीट करने के बाद करीब 18 नाव को तोड़ दिया था।

बसवार निवासी गेंदालाल पाल पहले से ही कछार में भेड़ों को चरा रहा था। भेड़ें घास चरने में मशगूल थी। इतने में प्रियंका गांधी का काफिला पहुंच गया। काफिले को देख कर भेड़ों में भगदड़ मच गई और कई भेडें उनके काफिले के बीच घुस गई।

गेंदालाल ने बताया कि उन्हें कुछ पता ही नहीं चला कि अचानक क्या हो गया। कुछ लोगों ने बताया कि इन्दिरा गांधी नातिन आई हैं। उसने बताया कि उनसे अधिक उसे अपने भेडों की चिंता थी कि कहीं वह भीड़ में खो न जाएं। उन्होने बताया कि भीेड़ में भेडों को पकडने के लिए घुसने पर सुरक्षा में चल रहे जवानों ने धक्का भी दे दिया दिया।

एक सवाल के जवाब में गेंदालाल ने बताया कि मैंने उनको देखने का जरा भी प्रयास नहीं किया क्योंकि मेरी भेंड़े भीड में चली गई और उनके खोने का डर सता रहा था। जब काफिला वहां से आगे निकल गया तब उसने राहत की सांस ली। उन्होंने बताया कि अगर उसे पता होता कि प्रियंका गांधी का काफिला कछार में भी आ सकता है तो अपनी भेड़ों को कुछ दूर रखता।

इस दौरान एक इलेक्ट्रानिक चैनल के पत्रकार धीरेंद्र द्विवेदी सुरक्षा जवानों की धक्का मुक्की में नीचे गिर गए और उन्हें खून भी निकल आया।