मेघालय की राजधानी शिलांग में कर्फ्यू के बाद सेना का फ्लैग मार्च

Shillong Violence Spreads Despite Curfew, 500 People In Army Shelter

शिलांग। मेघालय की राजधानी शिलांग में हिंसक घटना के परिप्रेक्ष्य में शुक्रवार की रात लगाए कर्फ्यू के बाद शनिवार को पुलिस और प्रशासन को सहयोग देने की दृष्टि से सेना ने फ्लैग मार्च किया।

राज्य परिवहन निगम की बस में यात्रा के दौरान कुछ महिलाओं और बस चालक के बीच कल झड़प हो गई थी जिसमें तीन लोग घायल हो गए थे। घटना में घायल लोगों को इलाज के लिए सिविल अस्पताल भेजा गया था, जहां उनको प्राथमिक उपचार के बाद छुट्टी दे दी गई थी। इस घटना में शामिल लोगों के बीच कैंटोनमेंट बीट हाउस में एक मौखिक समझौता हुआ।

घटना की जानकारी देते हुए पूर्वी खासी पर्वत के उपायुक्त पीएस दकहर ने कहा कि हिंसा का देखते हुए सेना ने फ्लैग मार्च किया है और जरूरत पड़ने पर सेना का सहयोग फिर लिया जा सकता है। उन्होंने कहा कि स्थिति अभी तनावपूर्ण है, लेकिन नियंत्रण में है।

मुख्यमंत्री कॉनरड संगमा ने कल राजधानी में खराब कानून-व्यवस्था को देखते हुए गृह मंत्री जेम्स के संगमा और अन्य कैबिनेट सहयोगियों के साथ एक आपातकालीन बैठक की। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार कानून-व्यवस्था की स्थिति की बारीकी से निगरानी कर रही है।

इस बीच, सरकार ने लोगों से शांत रहने की अपील और अफवाहों से दूर रहने को कहा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि घटना में शामिल लोगों से पूछताछ करने, अफवाहें फैलाने, हिंसा को उकसाने वाले तत्वों की पहचान करने के लिए मजिस्ट्रेट से जांच का आदेश दे दिया गया है।