लघु फिल्मों को प्रोत्साहन मिलना चाहिए : दिव्या खोसला

Short films should be encouraged : Divya Khosla kumar
Short films should be encouraged : Divya Khosla kumar

नई दिल्ली। फिल्मकार व अभिनेत्री दिव्या खोसला कुमार ने कहा कि लघु फिल्मों को प्रोत्साहन देने की जरूरत है। वह टी-सीरीज की लघु फिल्म ‘बुलबुल’ में नजर आएंगी।

दिव्या ने बताया कि ‘बुलबुल’ एक शॉर्ट फिल्म है और मैं समझती हूं कि शॉर्ट फिल्मों को प्रोत्साहन देना चाहिए, क्योंकि यह एक ऐसा माध्यम है, जिससे बहुत सारे प्रतिभावान व्यक्ति इस उद्योग में शामिल हो सकते हैं। विश्व में कोई भी व्यक्ति, कहीं भी एक शॉर्ट फिल्म बना सकता है।

यह पूछे जाने पर कि क्या लघु फिल्मों में अन्य फीचर फिल्मों के मुकाबले काम करना आसान है, उन्होंने कहा कि हां, निश्चित रूप से यह आसान है। शॉर्ट फिल्में इसलिए आसान हैं, क्योंकि इसे शूट करने में बहुत कम समय लगता है। फीचर फिल्म बहुत बड़ी होती है। आपकी जिंदगी के दो साल एक फीचर फिल्म में लग जाते हैं।

‘बुलबुल’ 25 मिनट की एक फिल्म है, जिसकी शूटिंग ज्यादातर शिमला में ही हुई है। इसका निर्देशन आशीष पांडे ने किया है और इसमें शिव पंडित एवं एली अवराम भी नजर आएंगे। इस फिल्म को दिवंगत फिल्मकार कुंदन शाह ने लिखा है।

दिव्या ने कहा कि यह एक कॉमेडी है। यह एक ऐसी लड़की के बारे में है, जो अपने प्रेमी को लुभा रही है और उसे किसी भी कीमत पर पाना चाहती है। इस बीच में सारी हास्यास्पद चीजें होती हैं। यह एक अति उत्साहित किरदार है, जो मुझसे बिल्कुल अलग है। यह चुनौतीपूर्ण था, लेकिन मुझे बहुत मजा आया।

उन्होंने कहा कि’बुलबुल’ कुंदन शाहजी का आखिरी काम है, क्योंकि दुर्भाग्य वर्ष अक्टूबर में उनका निधन हो गया, जब हम इसकी शूटिंग कर रहे थे। यह हमारे लिए दुखद था।

Loading...