अजमेर में सर्वजातीय सामूहिक विवाह 29 को, 34 जोड़े परिणय सूत्र में बंधेंगे

श्रीराम जानकी सर्वजातीय सामूहिक विवाह समिति के पदाधिकारी और सदस्य।

अजमेर। यूं तो हर समाज में सामूहिक विवाह सम्मेलन की परंपरा देखने को मिलने लगी है, लेकिन अजमेर में 29 अप्रेल को पहली बार सर्वजातीय विवाह का अनूठा संयोग देखने को मिलेगा।

सेवा भारती समिति अजमेर के तत्वावधान में श्रीराम जानकी सर्वजातीय सामूहिक विवाह समिति की ओर से वैसाख पूर्णिमा विक्रम सम्वत् 2075 रविवार 29 अप्रेल को पटेल मैदान अजमेर में सर्वजातीय सामूहिक विवाह रखा गया है।

सामाजिक समरसता बढ़ाने के कार्य में अनवरत लगी इस संस्था के प्रयास से अब तक 1454 से भी ज्यादा सामूहिक विवाह आयोजित किए जा चुके हैं। इसी कड़ी में अजमेर में 34 जोड़ों का विवाह कराया जाएगा।

वर-वधु को उपहार स्वरूप घरेलू कार्य में उपयोगी वस्तुओं का सेट भेंट किया जाएगा। पाणिग्रहण संस्कार के दौरान पहने जाने वाले वस्त्र जैसे साफा, शेरवानी, साड़ी समेत 9 वस्तुएं वर वधु को प्रदान की जा चुकी हैं।

विवाह समिति के संयोजक रामचरण बंसल ने बताया कि महंगाई के दौर में साधारण परिवारों में शादी जैसे बड़े आयोजनों में आर्थिक परेशानियां आती हैं। कम आय वाले परिवारों के लिए इन मौकों पर होने वाला खर्च वहन करना मुश्किल भरा होता है। ऐसे में संस्था ने सामाजिक समरसता बढाने तथा समाज के हर जाति वर्ग को एक साथ लाकर इस कार्य को संपन्न कराने का बीडा उठाया।

संतों का मिलेगा आशीर्वाद

श्रीराम जानकी सर्वजातीय सामूहिक विवाह को सन्तों का सान्निध्य व आशीर्वाद भी मिलेगा। मुख्य रूप से जगद्गुरू श्रीनिर्म्बाकाचार्य पीठाधीवश्वर श्रीजी महाराज, राष्ट्रीय सन्त महामण्डलेश्वर दिव्य मुरारी बापू, गनाहेड़ा धाम अ.श्री.वि. जयकृष्ण देवाचार्य, पीठाधीश्वर निम्बार्कपीठ, काचरिया, राजगढ़ भैरवधाम के मुख्य उपासक चम्पालाल महाराज, चित्रकूट धाम के सन्त पाठक जी महाराज उपस्थित रहेंगे।

मिनट टू मिनट कार्यक्रम का समय

रविवार 29 अप्रेल को सुबह 8 बजे सामूहिक गणेश पूजन होगा, बारात निकासी अग्रवाल स्कूल से 9 बजे होगी। बारात अग्रसेन चौराहा, सूचना केन्द्र होती हुई जिला परिषद के सामने वाले गेट से पटेल मैदान में प्रवेश करेगी। इसके बाद बारात स्वागत और सामूहिक तोरण की रस्म होगी। 10.30 बजे वरमाला और मंचीय कार्यक्रम सुबह 11 बजे होंगे। पाणिग्रहण संस्कार 12.15 से होगा तथा अपराहन 3 बजे विदाई होगी। इस बीच सुबह 11 बजे से प्रीतिभोज की व्यवस्था रहेगी।

सर्वसमाज ने उठाया सर्वजातीय विवाह का बीडा

सर्वजातीय सामूहिक विवाह के दौरान नवविवाहित जोड़ों को दिए जाने वाले उपहारों की व्यवस्था बिना किसी भेदभाव के समस्त जाति वर्ग के समाजसेवियों की ओर से की गई है। सर्वजातीय विवाह आयोजन से समाज के हर वर्ग में उत्साह का माहौल है। इस सामाजिक समरसता रूपी यज्ञ में विश्व हिन्दू परिषद, भारत विकास परिषद, विद्या भारती, राष्ट्र सेविका समिति, नेशनल मेडिकल ऑर्गनाईजेशन, लघु उद्योग भारतीय समेत कई संगठन सहभागी बने हैं।

ये गणमान्य रहेंगे मौजूद

सर्वजातीय सामूहिक विवाह समारोह के दौरान सेवा भारती राजस्थान के क्षेत्रीय संगठन मंत्री मूलचन्द सोनी, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ राजस्थान के क्षेत्रीय सेवा प्रमुख शिव लहरी व सेवा भारती राजस्थान के अध्यक्ष कैलाश शर्मा भी उपस्थित रहेंगे। समिति के संरक्षक मण्डल सदस्य जगदीश राणा, बसंत विजयवर्गीय, सुनील दत्त जैन, मुकेश अग्रवाल, डॉ क्षमाशील गुप्त, मोहन खण्डेलवाल, प्रदीप शर्मा, मुख्य संयोजक रामचरण बंसल, संयोजक मोहन सिंह यादव, सीताराम बंसल, मोहनलाल सोनी, सहसंयोजक गजेन्द्र सिंह चौहान, गिरधर पुरोहित, बनवारी लाल, कोषाध्यक्ष श्याम बिहारी शर्मा, लीलाधर बुन्देल, सदस्य दिनेश जैन, रजनी भदेल, रवि प्रकाश, सतीश वर्मा, हेम सिंह, तख्त सिंह, बबली कंवर, विजयलक्ष्मी व सेवा भारती समिति के सभी सदस्यों ने सर्वसमाज से विवाह सम्मेलन में सहभागी बनने की अपील की है।

कौन और क्या है सेवा भारती

सेवा भारती समाज के निर्धन, पीडि़त, वंचित, उपेक्षित समाज बंधुओं की सेवार्थ एक अखिल भारतीय संस्था है। शिक्षा, स्वास्थ्य, स्वावलम्बन, सामाजिक आदि क्षेत्रों में सेवा कार्यो के साथ, विभिन्न गतिविधियां भी संचालित करती है। बाल संस्कार केन्द्र, कोचिंग, वाचनालय, सेवा भारती बाल विद्यालय, सेवाधाम छात्रावास, मोबाईल वेन चिकित्सालय, न्यूरोथैरेपी उपचार केन्द्र, सद्साहित्य पुस्तकालय, आयुर्वेद व एक्यूप्रेशर, होम्योपैथी चिकित्सा केन्द्र, भोजनशाला, कम्प्यूटर प्रशिक्षण केन्द्र, महिला सिलाई प्रशिक्षण, महिला भजन प्रतियेागिता आदि का संचालन और आयोजन सेवा भारती के प्रकल्प के रूप में संचालित किए जाते हैं। राष्ट्रीय सेवा भारती द्वारा देशभर में 1,70,000 से अधिक सेवा कार्यों का संचालित किया जा रहा है। राजस्थान में समिति के तत्वाधान में अब ततक 1454 सामूहिक विवाह सम्पन्न कराए गए हैं।