श्रीराम ट्रांसपोर्ट फाइनेंस कंपनी एनसीडी के माध्यम से 5,000 करोड रुपए जुटाएगी

श्रीराम ट्रांसपोर्ट फाइनेंस कंपनी एनसीडी के माध्यम से 5,000 करोड रुपए जुटाएगी
श्रीराम ट्रांसपोर्ट फाइनेंस कंपनी एनसीडी के माध्यम से 5,000 करोड रुपए जुटाएगी

मुंबई । देश में सबसे बडी एसेट फाइनैंसिंग एनबीएफसी में से एक श्रीराम ट्रांसपोर्ट फाइनेंस कंपनी लिमिटेड (एसटीएफसी) ने पूर्व स्वामित्व वाले वाणिज्यिक वाहनों की फाइनैंसिंग पर फोकस करते हुए 5,000 करोड रुपए के 5,00,00,000 (पांच करोड) सुरक्षित रीडिमेबल गैर-परिवर्तनीय डिबेंचर्स (एनसीडी) जारी करने का प्रस्ताव किया है। प्रत्येक डिबेंचर का अंकित मूल्य 1,000 रुपए होगा।

25 जून 2018 के ट्रेंच 1 प्रोस्पेक्टस के जरिए कंपनी प्रत्येक 1,000 रुपए के अंकित मूल्य वाले 5,00,00,000 (केवल पांच करोड़) एनसीडी सदस्यता के लिए जनता को पेशकश कर रही है, जिनका कुल योग 5,000 करोड़ रुपये होगा। बेस इश्यू प्रत्येक 1,000 रुपए के अंकित मूल्य वाले 1,00,00,000 (एक करोड़) एनसीडी का होगा, जिनका कुल योग 1,000 करोड रुपए होगा, जिसमें 5,000 करोड़ रुपये की शेल्फ सीमा तक ओवर-सब्सक्रिप्शन बनाए रखने का विकल्प होगा।

यह इश्यू 27 जून, 2018 को खुलेगाा और बेस इश्यु के पूरी तरह सब्सक्राइब होने या क्लोजर और/अथवा एक्सटेंशन की स्थिति में जल्दी बंद होने के विकल्प के साथ 20 जुलाई, 2018 को बंद होगा। इस इश्यू के अधीन जारी किए जाने वाले गैर-परिवर्तनीय डिबेंचर्स (एनसीडी) को 5,000 करोड रुपए की राशि तक क्रिसिल की तरफ से ‘क्रिसिल एए ़/स्टेबल‘ रेटिंग मिली है और इंडिया रेटिंग्स एंड रिसर्च ने इसे ‘आईएनडी एए़ आउटलुक स्टेबल‘ रेटिंग दी है। ये रेटिंग वित्तीय दायित्वों को समय पर पूरा करने और बहुत कम क्रेडिट जोखिम के संबंध में उच्च स्तर की सुरक्षा दर्शाती हैं।

इस इश्यू के माध्यम से जुटाए गए धन का उपयोग आगे उधार, वित्त पोषण और कंपनी के मौजूदा मूल रकम और उधार के ब्याज की चुकौती/प्रीपेमेंट और सामान्य कॉर्पोरेट उद्देश्यों के लिए किया जाएगा। निवेश के लिए 3, 5 और 10 वर्ष की अवधि का विकल्प होगा और इस अवधि के लिए कूपन रेट मासिक, वार्षिक और संचयी भुगतान विकल्प के साथ प्रतिवर्ष 9.10, 9.30 और 9.40 होगी।

ब्याज की निश्चित दर वाले ये गैर-परिवर्तनीय डिबेंचर्स (एनसीडी) सात विभिन्न श्रृंखलाओं के तहत पेश किए जाएंगे स्ीरीज प् और सीरीज प्प् में मासिक विकल्प हैं और इनकी अवधि क्रमशः 5 वर्ष और 10 वर्ष है, और कूपन रेट 8.93 प्रतिवर्ष और 9.03 प्रतिवर्ष होगी। स्ीरीज प्प्प्, सीरीज प्ट और सीरीज ट में सालाना भुगतान किया जाएगा और इनकी अवधि क्रमशः 3 साल, 5 साल और 10 साल होगी तथा कूपन रेट क्रमशः 9.10 प्रतिवर्ष, 9.30 प्रतिवर्ष और 9.40 प्रतिवर्ष होगी।

सीरीज टप् और सीरीज टप्प् में संचयी भुगतान का विकल्प होगा, जिसके तहत अंकित मूल्य और ब्याज का भुगतान अवधि पूरी होने के बाद किया जाएगा। प्रभावी आय क्रमशः 9.10 प्रतिवर्ष, 9.30 प्रतिवर्ष होगी सभी श्रृंखलाओं में व्यक्तिगत निवेशकों के लिए 0.10 प्रतिवर्ष का अतिरिक्त प्रोत्साहन होगा। इसके अलावा, वरिष्ठ नागरिक (प्रारंभिक आवंटन) सभी श्रृंखलाओं में 0.25 प्रतिवर्ष के अतिरिक्त प्रोत्साहन के हकदार होंगे जो 0.35 होगा।

हाई नेट-वर्थ व्यक्तिगत और रिटेल व्यक्तिगत निवेशकों को सामूहिक रूप से ‘व्यक्तियों‘ के रूप में जाना जाएगा। इन गैर-परिवर्तनीय डिबेंचर्स (एनसीडी) को बीएसई लिमिटेड और नेशनल स्टाॅक एक्सचेंज आॅफ इंडिया लिमिटेड में सूचीबद्ध करने का प्रस्ताव है।

एक्सिस बैंक लिमिटेड, ए के कैपिटल सर्विसेज लिमिटेड, एडेलवाइस फाइनैंशियल सर्विसेज लिमिटेड, जेएम फाइनेंशियल सर्विसेज लिमिटेड और ट्रस्ट इनवेस्टमेंट एडवाइजर्स प्राइवेट लिमिटेड इस इश्यू के लिए लीड मैनेजर हैं। केटालिस्ट ट्रस्टीशिप लिमिटेड इस इश्यू के लिए डिबेंचर ट्रस्टी है, जबकि इंटीग्रेटेड रजिस्ट्री मैनेजमेंट सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड इस इश्यू के रजिस्ट्रार हैं।

श्रीराम ट्रांसपोर्ट फाइनेंस कंपनी लिमिटेड (एसटीएफसी) के बारे में

श्रीराम ट्रांसपोर्ट फाइनेंस कंपनी लिमिटेड (एसटीएफसी) श्रीराम समूह की प्रमुख कंपनी है। एसटीएफसी 95,306 करोड़ रुपये की संपत्ति के साथ सबसे बडी एसेट फाइनैंसिंग एनबीएफसी है। कंपनी 5-10 साल पुराने ट्रकों में सामरिक उपस्थिति के साथ पूर्व-स्वामित्व वाले ट्रकों के संगठित वित्त पोषण में अग्रणी है। 1,213 शाखाओं, 23,819 कर्मचारियों और 15,042 क्षेत्रीय अधिकारियों के नेटवर्क के साथ कंपनी की अखिल भारतीय उपस्थिति है। कंपनी ने लगभग 18.6 लाख लोगों का एक मजबूत ग्राहक आधार बनाया है।

पिछले 39 वर्षों में, एसटीएफसी ने अपने उत्पादों और सेवाओं का विस्तार करके समान संपत्ति वर्गों (पूर्व-स्वामित्व वाले और नए वाणिज्यिक और यात्री वाहन, ट्रैक्टर, थ्री व्हीलर, बहु-उपयोगिता वाहन इत्यादि) को शामिल करते हुए ‘‘सशक्तिकरण का एक पारिस्थितिक तंत्र‘‘ बनाया है। इसमें सहायक सेवाएं (कार्यशील पूंजी का वित्त पोषण, इंजन प्रतिस्थापन, बिल छूट, क्रेडिट कार्ड और समग्र वित्त पोषण सहायता के रूप में टायर-ऋण के लिए वित्त जैसी सहायक सेवाएं भी शामिल हैं।