कोटा में व्यापारी की हत्या के विरोध में सिंधी समाज का अजमेर में प्रदर्शन

अजमेर। राजस्थान के अजमेर में सिंधी समाज और उसके युवा संगठन ने कोटा में एक युवा व्यापारी की हत्या के मामले में आज कलेक्ट्रेट पर काली पट्टी बांधकर जमकर विरोध प्रदर्शन किया तथा हत्यारों को फांसी दिए जाने की मांग की।

सिंधी समाज के समर्थन में पहुंची अजमेर दक्षिण की विधायक अनिता भदेल ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि जिस मुख्यमंत्री के पास गृह मंत्रालय भी हो और प्रदेश में कानून व्यवस्था की स्थिति बदहाल हो, यह शर्मनाक है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में लूट एवं हत्याओं की वारदातें बढ़ती जा रही है। अपराधी पकड़ में नहीं आ रहे है।

अनिता भदेल ने कहा कि कोटा के युवा व्यापारी निखिल टेकवानी को अपराधियों ने मोबाइल देने के नाम पर बुलाया, लूटा और फिर हत्या कर दी। यह प्रदेश के व्यापारियों के लिए चिंता का विषय है। इस गूंगी बहरी सरकार को जगाने के लिए आज कलेक्टर के माध्यम से मुख्यमंत्री को ज्ञापन भेजकर सभी हत्यारों को पकड़े जाने की मांग की गई है। यदि मामले में न्याय नहीं मिला तो उग्र आंदोलन किया जाएगा।

युवा व्यवसाई की हत्या के मामले में एक पखवाड़े में पेश होगा चालान

कोटा के एक युवा व्यवसाई की हत्या के मामले की जांच करवा कर अगले एक पखवाड़े में न्यायालय में चालान पेश कर दिया जाएगा ताकि पीड़ित परिवार को शीघ्र न्याय मिल सके।

कोटा के किशोरपुरा थाना क्षेत्र की सिंधी कॉलोनी निवासी मोबाइल कारोबारी निखिल टेकवानी (23) की पिछले दिनों नृशंस तरीके से हत्या कर दी गई थी और हत्या के बाद उसकी कार समेत उसे जला दिया गया था। पुलिस ने इस मामले में तीन बदमाशों को गिरफ्तार किया था।

पुलिस अधीक्षक (शहर) के निर्देश पर यह तय किया गया है कि इस मामले की जांच ऑफिसर स्कीम के तहत जांच कर एक पखवाड़े में अदालत में चालान पेश किया जाए ताकि कोटा के व्यापारियों और सिंधी समाज की मांग के अनुरूप पीड़ित परिवार को त्वरित न्याय मिल सके।

हत्या के तीनों आरोपी अभी अदालत के आदेश पर सात दिन के पुलिस रिमांड पर हैं और वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों सहित अन्य पुलिसकर्मी उनसे गहनता से इस घटना के बारे में विस्तार से पूछताछ कर रहे हैं।

पुलिस इस मामले से जुड़े गवाहों का पता लगाकर उनके बयान दर्ज करने में भी जुटी हुई है ताकि आरोपियों के खिलाफ ठोस सबूतों के साथ मुकदमा न्यायालय में पेश कर उन्हें सजा दिलवाई जा सके।