अजमेर : महाराजा दाहरसेन की 1352वीं जयंती पर राष्ट्र रक्षा का संकल्प

अजमेर। राजस्थान के अजमेर में आज सिंधुपति महाराजा दाहरसेन की 1352वीं जयंती पर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की गई।

अजमेर के हरिभाउ उपाध्याय कॉलोनी पुष्कर रोड स्थित सिंधुपति महाराजा दाहरसेन स्मारक पर पूर्व सांसद एवं भाजपा के वरिष्ठ नेता ओंकार सिंह लखावत ने उनकी मूर्ति पर श्रद्धासुमन अर्पित किए तथा सिंध के मानचित्र पर राष्ट्र रक्षा का सूत्र बांधा। इस अवसर पर लखावत ने घोषणा की कि रजत जयंती वर्ष में बारह महीने निरंतर देशभक्ति के कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे।

उपमहापौर नीरज जैन ने कहा कि सिंधुपति महाराजा दाहरसेन विदेशी आक्रमणकारियों से संघर्ष करते हुए राष्ट्र रक्षा में बलिदान हो गए। एडवोकेट शशि प्रकाश इंदोरिया ने कहा कि महान शूरवीर योद्धा के जयंती पर हम यहां एकत्रित हुए हैं और हम संकल्प लें कि राष्ट्र रक्षा सूत्र बांधकर अखण्ड भारत बनाएंगे।

भारतीय सिन्धु सभा के राष्ट्रीय मंत्री महेन्द्र कुमार तीर्थाणी ने कहा कि महाराजा दाहरसेन स्मारक के साथ देश भर में युवा ईकाई द्वारा कार्यक्रम आयोजित किए गए हैं। कार्यक्रमों में प्रभातफेरी, संगोष्ठियां, महाराजा दाहरसेन के चित्र पर रंगभरे गए।

समारोह समिति के कवंल प्रकाश किशनानी ने कहा कि सात दिवसीय ऑनलाइन आयोजन में महाराजा दाहरसेन के जीवन की गौरव गाथा व प्रेरणादायी प्रसंगों को युवा पीढी तक पहुंचाना समिति का मुख्य ध्येय है। देश दुनिया के साथ सिन्ध में भी अब महाराजा दाहरसेन के पराक्रम को याद किया जा रहा है।

हिंगलाज माता का पूजन ताराचन्द राजपुरोहित ने करवाया। समन्वयक मोहन तुलस्यिाणी ने आभार प्रकट किया। भारतीय सिंधु सभा के राष्ट्रीय मंत्री महेंद्र तीर्थाणी की अगुवाई में कोरोना नियमों की पालना के साथ हिंगलाज माता पूजन तथा जगतगुरु श्रीचंद्र भगवान की धूणि दर्शन का कार्यक्रम भी स्मारक पर संपन्न हुआ।

सिंधुपति महाराजा दाहरसेन विकास एवं समारोह समिति की ओर से जयंती के मौके पर सात दिवसीय राष्ट्रीय सुरक्षा को समर्पित आयोजन समिति संयोजक कंवलप्रकाश किशनानी की देखरेख में संपन्न हुए।

कार्यक्रम में पूर्व उप-महापौर सम्पत सांखला, तुलसी सोनी, मुकेश आहूजा, दीपक सिंह राठौड, विनीत लोहिया, रणधीर सिंह कच्छावा, मोहन कोटवाणी, पुरूषोतम जगवाणी, भैरू गुर्जर, रोहित यादव, प्रदीप हीरानंदाणी, प्रकाश हिंगोराणी, महेश मूलचंदाणी सहित विभिन्न संगठनों के कार्यकर्ता उपस्थित थे।