महाराणा प्रताप की अष्टधातु से निर्मित प्रतिमा पूजा-अर्चना के बाद अयोध्या रवाना

जयपुर। राजस्थान में भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष डॉ सतीश पूनिया ने आज वीर शिरोमणि महाराणा प्रताप की अष्टधातु से निर्मित विशाल प्रतिमा को पूजा-अर्चना व पुष्प अर्पित कर अयोध्या के लिए रवाना किया।

डॉ. पूनियां ने महाराणा प्रताप की जयंती पर प्रदेशवासियों को शुभकामनाएं देते हुए कहा कि राजस्थान की धरती एवं हम सबका का सौभाग्य है कि छोटी काशी जयपुर के शिल्पकार महावीर भारती व उनकी टीम द्वारा हस्तनिर्मित लगभग 1500 किलोग्राम अष्टधातु की महाराणा प्रताप की भव्य प्रतिमा भगवान श्रीराम की नगरी अयोध्या में स्थापित होगी।

इस प्रतिमा का अनावरण उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ करेंगे। उन्होंने शिल्पकार महावीर भारती, निर्मला कुलहरी और उनकी पूरी टीम को शुभकामनाएं दी। उन्होंने कहा कि शक्ति एवं भक्ति की धरती राजस्थान की वीर गाथाएं जो हल्दीघाटी में गूंजती हैं, वह अब अयोध्या में भी प्रेरणा देंगी।

डॉ. पूनियां ने कहा कि महाराणा प्रताप ने कभी अधीनता स्वीकार नहीं की और अपने शौर्य-स्वाभिमान के बूते मुगलों को धूल चटाई। शौर्य पुरुष महाराणा प्रताप को तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजयेपी एवं प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने इतिहास में उचित स्थान देकर उनके स्वाभिमान व शौर्य को सम्मान दिया, जिससे पुस्तकों के माध्यम से नई पीढ़ी प्रेरणा ले रही है।

उन्होंने कहा कि राजस्थान के स्वयंसेवी संगठनों ने प्रताप गौरव केन्द्र की स्थापना करके एक अदभुत स्मारक प्रदेशवासियों को सुपुर्द किया। अप्रतिम योद्धा के रूप में महाराणा प्रताप का शौर्य, वीरता और बलिदान हम सबके लिये अनुकरणीय है और नई पीढियों के लिए भी हमेशा प्रेरणादायक रहेगा। उन्होंने भारतीय जनता पार्टी राजस्थान परिवार की ओर से महाराणा प्रताप को नमन किया।

इस अवसर पर प्रदेश महामंत्री व सांसद दीया कुमारी, विश्व हिन्दू परिषद के प्रांत अध्यक्ष प्रताप भानु, संस्कार भारती के राष्ट्रीय महामंत्री रविन्द्र भारती, युवा मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष हिमांशु शर्मा, उपमहापौर पुनीत कर्नावट आदि मौजूद थे।