मंत्री की कथित बहू की आत्महत्या मामले में जांच होगी : शिवराज

Suicide of MP Minister’s alleged daughter-in-law to be investigated: Shivraj

भोपाल। मध्यप्रदेश के लोक निर्माण मंत्री रामपाल सिंह की कथित बहू की आत्महत्या के मामले में प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने रविवार को कहा कि मामले की जांच होगी।

गृह मंत्री भूपेंद्र सिंह ने संवाददाताओं से कहा कि युवती ने अपने सुसाइड नोट में किसी पर आरोप नहीं लगाए हैं, मामले में पुलिस जांच कर रही है, जांच में मिले तथ्यों के अाधार पर आगे की कार्यवाही होगी।

वहीं शनिवार को रायसेन जिले के उदयपुरा में आत्महत्या करने वाली प्रीति रघुवंशी के परिजन ने रविवार को पोस्टमार्टम के बाद उसका शव लेने से इंकार कर दिया। परिजन ने प्रीति का शव उसके कथित पति आैर मंत्री सिंह के बेटे गिरजेश प्रताप सिंह को ही सौंपे जाने और हिंदू रीति रिवाजों के मुताबिक गिरजेश के हाथों ही प्रीति का अंतिम संस्कार कराए जाने की मांग की है।

परिजन का आरोप है कि प्रीति के पोस्टमार्टम के दौरान उन्होंने पोस्टमार्टम फॉर्म पर हस्ताक्षर किए, लेकिन उनके वीडियोग्राफर को अंदर नहीं जाने दिया गया। वहीं उदयपुरा में तनाव के हालात देखते हुए कलेक्टर भावना बालिंबे और पुलिस अधीक्षक जगत सिंह राजपूत सहित मौके पर भारी पुलिस बल तैनात किया गया है।

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक किरण केरकट्टा ने कहा कि मामले की जांच की जा रही है। उसके बाद ही कहा जा सकता है कि किस प्रकार का मामला दर्ज होगा।

उदयपुरा निवासी प्रीति रघुवंशी ने कल अपने घर में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी। दावा किया जा रहा है कि प्रीति और गिरजेश ने कुछ दिन पहले भोपाल में आर्य समाज मंदिर में शादी कर ली थी, लेकिन कुछ दिन पहले गिरजेश के परिजन ने उसकी सगाई कहीं और कर दी। बताया जा रहा है कि इसके बाद से प्रीति तनाव में थी और इसी के चलते उसने आत्महत्या कर ली।