अफगानिस्तान में महिलाओं के काम पर लौटने पर ‘तालिबानी रोक’

काबुल। अफगानिस्तान में महिलाओं को सार्वजनिक जीवन से दूर रखने के उपायों के तहत तालिबान के ग्रामीण विकास मंत्रालय ने महिलाओं के काम पर लौटने पर प्रतिबंध लगा दिया है।

मंत्रालय ने केवल पुरुषों को अपनी नौकरी पर लौटने का आदेश दिया, और कहा कि महिलाओं की काम पर वापसी को ‘स्थगित’ कर दिया गया है, जब तक कि यह ‘वे कैसे काम करेंगी’ के लिए एक तंत्र तैयार नहीं करते हैं। तालिबान के लिखित इस खत का स्क्रीन शॉट सोशल मीडिया पर भी वायरल है।

तालिबान के एक अन्य निर्देश में, इस्लामी समूह के एक वरिष्ठ सदस्य को टेलीविजन पर यह कहते हुए सुना गया कि महिलाओं को रंगीन कपड़े नहीं पहनने चाहिए, इत्र नही लगाना चाहिए या ऊंची एड़ी के जूते नहीं पहनने चाहिए।

इस बीच तालिबान ने केवल लड़कों के लिए हाई स्कूल फिर से खोलने का आदेश देकर अफगानिस्तान में लड़कियों की माध्यमिक शिक्षा पर प्रभावी रूप से प्रतिबंध लगा दिया है।

गत 17 सितंबर को, तालिबान द्वारा संचालित शिक्षा मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि अफगान स्कूल लड़कों के लिए खुलेंगे, लेकिन यह उल्लेख नहीं किया कि लड़कियां कब स्कूल लौट सकती हैं। बयान में कहा गया कि सभी पुरुष शिक्षकों और छात्रों को अपने शैक्षणिक संस्थानों में भाग लेना चाहिए।

सूचना और संस्कृति मंत्रालय ने कहा कि कार्यवाहक सरकार कुछ धार्मिक विद्वानों के सहयोग से लड़कियों के लिए स्कूल खोलने की योजना पर काम कर रही है।

संयुक्त राष्ट्र की उप महासचिव अमीना मोहम्मद ने लड़कियों को शिक्षा से दूर रखने पर चिंता व्यक्त की है। उन्होंने पिछले सप्ताह कहा था कि यह सुनिश्चित करना कि सभी अफगान लड़कियों को शिक्षित किया जा सकता है, तालिबान के लिए ‘शून्य शर्त’ होनी चाहिए, इससे पहले कि उनके वास्तविक अधिकार की अंतररष्ट्रीय मान्यता दी जाए।