तालिबान की काबुल में एंट्री, अफगानिस्तान में सत्ता हस्तांतरण की कवायद

काबुल। तालिबान मुल्ला अब्दुल गनी बरादर अफगानिस्तान में सत्ता के शांतिपूर्ण हस्तांतरण की प्रक्रिया के रविवार को काबुल पहुंचे और पूर्व आंतरिक मंत्री अली अहमद जलाली से छह माह के लिए अंतरिम सरकार का नेतृत्व करने के लिए कहा है।

अल अरबिया और अन्य मीडिया आउटलेट्स के मुताबिक जलाली अफगानिस्तान में अंतरिम सरकार के प्रमुख होंगे। अफगनिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी के आज ही पद छोड़ देने की उम्मीद है और नई अंतरिम सरकार का एक-दो दिन में गठन हो सकता है।

रिपोर्टों में कहा गया है कि तालिबान के वार्ताकार और अफगानिस्तान के अधिकारी राष्ट्रपति भवन में आयोजित बैठक में सत्ता के शांतिपूर्ण हस्तांतरण के लिए समझौते के करीब पहुंच गए हैं।

अफगानिस्तान के सैन्य हवाई ठिकाने पर तालिबान का कब्जा

तालिबान ने अफगानिस्तान में सबसे बड़े सैन्य हवाई ठिकाने बगराम को अपने नियंत्रण में ले लिया है। एक प्रत्यक्षदर्शी ने रविवार को यह जानकारी दी।

काबुल के उत्तर में स्थित बगराम एयर बेस 2001 से अमरीका के लिए मुख्य सैन्य अड्डा हुआ करता था। अमरीकी सैनिकों की वापसी के समझौते के तहत अमरीका नीत गठबंधन बल ने इसे अफगानिस्तान के सुपुर्द कर दिया था।

मीडिया रिपार्टों के मुताबिक बगराम के अधिकारियों ने स्वत: एयर बेस को तालिबान के हवाले कर दिया। इस बीच तालिबान लड़ाकों ने एक स्थानीय जेल से कैदियों को भी मुक्त कराया।

मुल्ला बरादर के नए राष्ट्रपति बनने की संभावना

अफगानिस्तान में तालिबान के नेता मुल्ला अब्दुल गनी बरादर के नेतृत्व में नई सरकार बनने की संभावना जताई गई है। अल अरबिया की रिपोर्ट के मुताबिक शांति वार्ता के लिए दोहा से मुल्ला बरादर काबुल पहुंच चुके हैं।

तालिबान ने सत्ता के ‘शांतिपूर्ण आत्मसमर्पण’ का आह्वान किया है वहीं अफगानी राष्ट्रपति अशरफ गनी ने पद छोड़ने के संकेत दिए हैं। अफगानिस्तान के कार्यवाहक आंतरिक मंत्री अब्दुल सत्तार मिर्जाकावल ने एक वीडियो संदेश में अंतरिम सरकार के गठन पर बातचीत की पुष्टि की है।

इस बीच तालिबान के प्रवक्ता जबीहुल्लाह मुजाहिद ने कहा कि उनके समूह का बलपूर्वक अथवा युद्ध के जरिए काबुल में प्रवेश करने का कोई इरादा नहीं है, लेकिन इसके लिए वह बातचीत कर रहा है। उन्होंने नागरिकों को आश्वस्त किया है कि लोगों के जीवन, सम्मान और संपत्ति की रक्षा की जाएगी।

तालिबान ने दी विदेशी राजनयिक मिशनों की सुरक्षा की गारंटी

अफगानिस्तान में रूस के विशेष राष्ट्रपति प्रतिनिधि जमीन काबुलोव ने रविवार को कहा कि तालिबान ने रूसी दूतावास ही नहीं बल्कि सभी विदेशी राजनयिक मिशनों की सुरक्षा सुनिश्चित करने की प्रतिबद्धता जताई है।

काबुलोव ने कहा कि केवल रूस के लिए नहीं बल्कि सभी विदेशी राजनयिक मिशनों की सुरक्षा को लेकर हमें बहुत पहले ऐसा आश्वासन दिया गया था। उन्होंने कहा कि रूस काबुल से अपने राजनयिक कर्मियों को निकालने नहीं जा रहा है। उन्होंने कहा कि मैं अपने राजदूत के संपर्क में हूं। वे घटनाक्रमों पर बारीकी से नजर रखे हुए हैं।