जैसलमेर में तनोट माता मंदिर एवं रामदेवरा के दर्शन श्रद्धालुओं के लिए खोले

जैसलमेर। राजस्थान सरकार की नई गाइडलाइंस के अनर्गत भारत पाक सीमा पर जैसलमेर जिले में विश्वविख्यात 1200 साल पुराने तनोट माता मंदिर एवं जिले के रामदेवरा में बाबा रामदेव का मंदिर करीब 76 दिन बाद विधि विधान से श्रद्धालुओं के लिए खोल दिए गए।

रामदेवरा मन्दिर कमेटी एवं तनोट माता ट्रस्ट द्वारा सरकारी निर्देशो के अनुसार यहां आने वाले श्रृद्धालुओं के लिए विशेष प्रकार के कोविड सुरक्षा हेतु प्रबंध किए गए थे। बाबा रामदेव का मंदिर अभिशेक एवं आरती के बाद खोला गया। इस दौरान बाबा के जय-जयकारों से मंदिर गूंजायमान हो उठा।

बीएसएफ सेक्टर नॉर्थ के डीआईजी अरूण कुमार सिंह ने बताया कि राज्य सरकार की गाईडलाईन के बाद जिला मुख्यालय से 120 किलोमीटर की दूरी पर भारत पाकिस्तान की सीमा पर स्थित चमत्कारी एवं भारत पाक के युद्धों के गवाह रहे प्राचीन तनोट माता मंदिर को बीएसएफ प्रशासन द्वारा श्रृद्धालुओं के लिए विधिवत पूजा अर्चना के बाद गुरुवार सुबह पांच बजे खोल दिया गया मंदिर में तनोट माता की प्रसिद्ध विशेष आरती एवं पूजा अर्चना की गई।

इसी प्रकार जन जन के आराध्यदेव बाबा रामदेव जी की समाधि स्थल के कपाट सुबह पांच बजे ब्रम्ह मुहूर्त में श्रृद्धालुओं के लिए खोल दिए गए। इस दौरान रामदेव जी की समाधि पर पंचामृत से अभिषेक किया गया और विशेष पूजा अर्चना की गई तथा विश्व मे फैली कोरोना महामारी के खात्मे की कामना की गई।

इसके बाद मुख्य प्रोल से श्रद्धालुओं को हैंडवाश करवाने के बाद बिना प्रसाद के सोशल डिस्टेसिंग की पालना करवाते हुए प्रवेश दिया जा रहा है। कर्मचारियों द्वारा परिसर में सरकारी गाईडलाइन की पालना करते हुए बार बार सेनेटाइज किया जा रहा है।