टाटा मोटर्स ने अल्ट्रा रेंज के तहत एक साथ 14 ट्रकों को लांच किया

टाटा मोटर्स ने अल्ट्रा रेंज के तहत एक साथ 14 ट्रकों को लांच किया
टाटा मोटर्स ने अल्ट्रा रेंज के तहत एक साथ 14 ट्रकों को लांच किया

पुणे। मध्यम एवं हल्के वाणिज्यिक वाहनों (आईएलसीवी) की श्रेणी में अपना दबदबा बनाए रखने के लिए वाहन निर्माता कंपनी टाटा मोटर्स ने अल्ट्रा रेंज के तहत एक साथ 14 ट्रकों को लांच किया है। ये ट्रक से 10 से 25 लाख रुपए के बीच उपलब्ध हैं।

कंपनी का कहना है कि अल्ट्रा रेंज की ये नयी पीढ़ी के ट्रक ड्राइवरों और खरीदारों के हितों को ध्यान में रखकर बनाए गए हैं। टाटा मोटर्स ने इन ट्रकों को मॉड्यूलर प्लेटफॉर्म पर बनाया है,जिनमें 50 से अधिक एप्लीकेशन हैं।

टाटा मोटर्स की वाणिज्यिक वाहन इकाई के प्रमुख गिरीश वाघ ने बुधवार शाम यहां आयोजित कार्यक्रम के दाैरान ट्रकों को राष्ट्रीय स्तर पर लांच करते हुए कहा है कि ये ट्रक तीन से पांच लीटर वाले टर्बोट्राॅन इंजन से लैस हैं, जो अधिक माइलेज देते हैं। लांच किए गए ट्रकों में रेफ्रीजेरेटेड ट्रक, टिपर्स, टैंकर, सीमेंट ढोने वाले ट्रक, ई कॉमर्स, नगरपालिका आदि के इस्तेमाल वाले वाहन शामिल हैं।

वाघ ने कहा कि इन ट्रकों की मुख्य विशेषता इनका केबिन स्पेस हैं। इसे ड्राइवरों की सुविधा को ध्यान में रखते हुए डिजाइन किया गया है। लांच से पहले पायलट लांच के तहत कुछ ग्राहकों को ये ट्रक दिए गए थे, जिन्होंने इनके प्रदर्शन की काफी तारीफ की है।

उन्होंने बताया कि नई पीढ़ी के इन ट्रकों की सर्विसिंग का दायरा भी बढ़ा दिया गया है जिसके कारण ग्राहकों को अब वर्कशॉप में अधिक समय नहीं बर्बाद करना होगा। इसके अलावा बीमा पॉलिसी की सुविधा भी दी जा रही है, जो वाहन के ड्राइवर से जुड़ी होगी। इसके तहत कुछ सड़क दुर्घटनाओं को कवर किया गया है। ये ट्रक संपूर्ण सेवा पैकेज के साथ हैं, जो तीन साल या तीन लाख किलोमीटर की मानक वारंटी के साथ है।

उन्होंने बताया कि बुनियादी ढांचा विकास, स्मार्ट सिटी, मेट्रो रेल परियोजना, किफायती आवास, सड़क निर्माण आदि पर जोर दिए जाने से वाणिज्यिक वाहनों की मांग में तेज इजाफा हुआ है और टाटा मोटर्स ने इस क्षेत्र में अपनी हिस्सेदारी बढ़ाने के लिए नई परिस्थतियों के अनुकूल वाहन बाजार में उतारे हैं। इसके अलावा आेवरलोड रोकने के नियमों का सख्ती से पालन किया जा रहा है जिससे भी मांग पर सकारात्मक प्रभाव पड़ा है।

श्री वाघ ने बताया कि टाटा मोटर्स प्रति वर्ष अपनी वाणिज्यिक वाहन श्रेणी पर 1,500 करोड़ रुपए का निवेश करती है और आने वाले दो साल में यह निवेश बढाने की योजना है।