अल्मोड़ा में छात्रों के यौन उत्पीड़न का आरोपी शिक्षक अरेस्ट

नैनीताल। उत्तराखंड की अल्मोड़ा पुलिस ने अपने ही विद्यालय के छात्रों के साथ यौन उत्पीड़न के आरोपी सरकारी शिक्षक को गिरफ्तार कर लिया गया है। आरोपी कई दिनों से मेडिकल अवकाश के बहाने फरार था।

आरोपी की गिरफ्तारी के लिए पुलिस उपाधीक्षक ओशिन जोशी की अगुवाई में एक संयुक्त टीम का गठन किया गया। पुलिस टीम ने आरोपी शिक्षक को बुधवार को ज्योलिकोट-भवाली तिराहे से गिरफ्तार कर लिया।

अल्मोड़ा के रानीखेत तहसील के उच्चतर माध्यमिक विद्यालय सालीखेत के करीब छह छात्रों ने अपने ही विद्यालय के शिक्षक ऐबरन कुमार गंगवार पर यौन उत्पीड़न का गंभीर आरोप लगाए थे। इस प्रकरण के संज्ञान में आते ही अभिभावकों में आक्रोश फैल गया और वह 12 मई को विद्यालय आ धमके। उन्होंने आरोपी अध्यापक के खिलाफ कार्रवाई को लेकर काफी हंगामा किया।

आरोपी सहायक शिक्षक के पद पर तैनात है। वह 2006 से इस विद्यालय में तैनात है। आरोपी मूल रूप से उत्तर प्रदेश के बरेली जनपद के ग्राम बाजपुर, जोखनपुर का निवासी है और उसे इस घटना की भनक लगते ही मेडिकल अवकाश के बहाने लापता हो गया। क्योंकि मामला राजस्व क्षेत्र से जुड़ा हुआ है। इसलिए आरोपी के खिलाफ पहले राजस्व पुलिस में मामला दर्ज कराया गया।

जिला प्रशासन की ओर से मामले की गंभीरता को देखते हुए नियमित पुलिस को इस प्रकरण की जांच सौंप दी गयी। शिकायतकर्ता हरीश चंद्र जोशी की शिकायत पर आरोपी शिक्षक के खिलाफ यौन शोषण संरक्षण (पोक्सो) अधिनियम की गंभीर धाराओं में मामला दर्ज कर लिया गया।

साथ ही वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक प्रदीप कुमार राय के निर्देश पर मामले की जांच अल्मोड़ा की महिला थाना प्रभारी बरखा कन्याल को सौंपी गई। यही नहीं आरोपी की गिरफ्तारी के लिए पुलिस उपाधीक्षक ओशिन जोशी की अगुवाई में एक संयुक्त टीम का गठन किया गया। पुलिस टीम ने आरोपी शिक्षक को बुधवार को ज्योलिकोट-भवाली तिराहे से गिरफ्तार कर लिया।

आरोपी शिक्षक इससे पहले अल्मोड़ा जनपद के ही सल्ट में राजकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय हिनौला सल्ट में तैनात रह चुका है। जांच अधिकारी ने बताया कि आरोपी मेडिकल अवकाश के बहाने 22 अप्रैल से लापता है।