पोर्श के स्पोर्ट्स कार की खासियतों को बुद्ध इंटरनेशनल सर्किट में परखा गया

The specialty of Porsche Sports car was tested in the Buddha International Circuit
The specialty of Porsche Sports car was tested in the Buddha International Circuit

नई दिल्ली। पोर्श के असली स्पोर्ट्स कार डीएनए को दिखाने के लिए, 718 केमैन, 718 बॉक्स्टर, और 911 पैनामेरा की रेसिंग विरासत को पोर्श इंडिया द्वारा आयोजित विशेष ट्रैक डे में उनकी गति के साथ पेश किया गया। इस कार्यक्रम का आयोजन बुद्ध इंटरनेशनल सर्किट (बीआइसी) में हुआ जोकि कभी भारतीय ग्रांड प्रिक्स का घर हुआ करता है। यहां मौजूद अतिथियों को प्रत्येक मॉडल में 5.14 किलोमीटर के ट्रैक का अनुभव करने का मौका मिला। यहां स्पोर्ट्स कार रेंज के सर्वोत्कृष्ट प्रदर्शन और ड्राइव कम्फर्ट को प्रदर्शित करने के लिए डिजाइन किये गये स्किल टेस्ट्स की रेंज का संचालन किया गया।

पवन शेट्टी, डायरेक्टर, पोर्श इंडिया ने कहा: ‘‘एक्सपर्ट इंस्ट्रक्टर्स की मदद से, अतिथि ड्राइव इवेंट में हमारे साथ शामिल हुये और उन्हें उनके अंदर मौजूद रेसिंग ड्राइवर को बाहर लाने तथा पोर्श के मोटरस्पोर्ट हेरिटेज का अनुभव करने का मौका मिला। आइकॉनिक 911 से लेकर पैनामेरा के लग्जरी सैलून तक, हमारी सभी कारें ट्रैक पर उसी तरह होती हैं जैसे शहर की सड़कों पर दौड़ती हैं, और इन्हें प्रदर्शित करने के लिए बुद्ध इंटरनेशनल सर्किट से बेहतर कोई दूसरा स्थान नहीं हो सकता है।‘‘

पोर्श के तकनीकी विकास को स्लैलॉम, ब्रेकिंग, एक्सीलरेशन और स्टीयरिंग चुनौतियों में परखा गया है। यह अतिथियों को प्रदर्शन से कोई समझौता किये बगैर राइड कम्फर्ट बढ़ाने के लिए डिजाइन किये गये सिस्टम की रेंज का अनुभव करने का मौका देती है। पोर्श डायनैमिक्स चेसिस कंट्रोल स्पोर्ट (पीडीसीसी स्पोर्ट) और पोर्श टॉर्क वेक्टरिंग (पीटीवी) प्लस का संयोजन किनारों के भीतर और बाहर स्थिरता और ट्रैक्शन बढ़ाने के लिए किया गया है। एडैप्टिव एयर सस्पेंशन, जिसमें पोर्श ऐक्टिव सस्पेंशन मैनेजमेंट (पीएएसएम) शामिल है, को ट्रैक पर ऐक्टीवेट किया गया ताकि सड़क की स्थितियों एवं प्रत्येक गेस्ट की ड्राइविंग स्टाइल के अनुसार सक्रियता से निरंतर डैम्पिंग फोर्स को व्यवस्थित किया जा सके। रियर एक्सल स्टीयरिंग और पावर स्टीयरिंग प्लस स्पोर्टी एवं प्रिसाइज हैंडलिंग सुनिश्चित करते हैं। पैनामेरा टर्बो में, अतिथि 4डी चेसिस कंट्रोल का अनुभव करने में सक्षम थे। यह केन्द्रीय रूप से नेटवर्क किया गया सिस्टम है जोकि वास्तविक समय में सभी चेसिस सिस्टम को सिंक्रोनाईज करता है और कार की हैंडलिंग बेहतर बनाता है।

दोनों मिड-इंजन कूपे, नई जनरेशन 718 बॉक्स्टर और 718 केमैन में टर्बो फ्लैट इंजन लगे हुये हैं। इसके चार सिलेंडर्स 300 हार्सपावर पैदा करते हैं और इसमें 380 एनएम का अधिकतम टॉर्क है। दमदार इंजन 275 किलोमीटर प्रति घंटा की शीर्ष स्पीड प्रदान करता है और मॉडलों को महज 4.9 सेकंड में 0 से 100 किलोमीटर प्रति घंटा तक पहुंचाता है। (स्पोर्ट प्लस के साथ 4.7)।

911 कैरेरा एस 4.1 सेकंड में 100 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार पकड़ती है (स्पोर्ट प्लस के साथ 3.9)। इसमें तीन लीटर का सिक्स-सिलेंडर बाय-टर्बो चार्जिंग इंजन लगा हुआ है जोकि 420 हार्सपावर उत्पन्न करता है, इसमें 500एनएम का अधिकतम टॉर्क और 306 किलोमीटर प्रति घंटा की शीर्ष स्पीड है। पैनामेरा टर्बो फोर-डोर लग्जरी सैलून और स्पोर्ट्स कार है। यह वी8 टर्बो-चार्ज्ड इंजन 3.8 सेकंड में 100 किलोमीटर प्रति घंटा तक पहुंच जाती है (स्पोर्ट प्लस के साथ 3.6), 550 हार्सपावर पैदा करती है और 770 एनएम का अधिकतम टॉर्क है। टर्बो की शीर्ष स्पीड 306 किलोमीटर प्रति घंटा है।