कोरोना वायरस के खौफ से दुनिया एक दूसरे से अलग-थलग हुई

अभी कुछ माह पहले तक किसी ने नहीं सोचा था कि कोरोना वायरस दुनिया भर में तबाही मचा कर रख देगा। आज विश्व में 100 से अधिक देशों में इस संक्रमण की दहशत इस कदर व्याप्त है कि एक देश से दूसरे देश के लिए दरवाजे बंद कर दिए हैं।

सही मायने में कोरोना वायरस की दहशत से आज दुनिया अलग-थलग दिखाई दे रही है। हर दिन इसके संक्रमण में लोग आते जा रहे हैं। डर और दहशत इस कदर बढ़ गई है कि लोग एक दूसरे से बात करने में कतरा रहे हैं। आज विश्व के तमाम देशाें ने अपने यहां आने वाले लोगों के लिए पाबंदियां लगा रखी हैं।

अभी तक कोरोना वायरस संक्रमण के इलाज की भी नहीं खोज हो पाई है। इस समय लगभग इस संक्रमण से पांच हजार लोगों की मौत हो चुकी है, और हजारों की संख्या में इसके संक्रमण से ग्रसित हैं। यह कोरोना वायरस क्या आज क्या खास सभी को अपनी चपेट में लेता जा रहा है। आज विश्व इस संक्रमण की दहशत में मानाे असहाय सा खड़ा है। चीन इटली, ईरान, अमेरिका, भारत और जापान आदि देश को रोना वायरस के संक्रमण से बुरी तरह प्रभावित हैं। भारत में भी इस संक्रमण के 60 से अधिक मरीज पॉजिटिव पाए गए हैं।

भारत ने भी कोरोना वायरस से निपटने के लिए बनाई आक्रामक नीति

केंद्र की मोदी सरकार ने भी कोरोना वायरस संक्रमण से निपटने के लिए अब आक्रामक नीति बनाते हुए फैसला किया है कि अब वह दुनिया से अपने आप को अलग-थलग करने जा रहा है। तेजी से फैल रहे कोरोना वायरस से निपटने के लिए नरेंद्र मोदी सरकार ने अहम फैसला किया है। एक के बाद एक स्वास्थ्य और विमानन मंत्रालय ने कई नोटिफिकेशन जारी किए हैं। इसके अमल के बाद भारत अगले एक महीने तक पूरी दुनिया से खुद को अलग-थलग कर लेगा।

मकसद मैन टू मैन कॉन्टैक्ट से फैल रहे वायरस पर कंट्रोल करना है। भारत सरकार के फैसले के कुछ देर बाद ही विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोरोना वायरस को महामारी घोषित कर दिया। भारत सरकार ने दुनिया के किसी भी देश से आने वाले लोगों का वीजा 15 अप्रैल तक सस्पेंड कर दिया है। संयुक्त राष्ट्र से जुड़े कर्मचारियों, कूटनीतिक मामलों और सरकारी प्रॉजेक्ट से जुड़े अधिकारियों पर ये बैन लागू नहीं होगा।

अब भारत में सघन चेकिंग के बाद ही आ सकेंगे विदेशी यात्री

चीन, इटली, ईरान, कोरिया, फ्रांस, स्पेन और जर्मनी में जो भी भारतीय या विदेशी यात्री 15 फरवरी तक रहे हों, उन्हें भारत आने पर कम से कम 14 दिन के लिए अलग मेडिकल निगरानी में रखा जाएगा। 13 मार्च के बाद से ही यह व्यवस्था लागू हो जाएगी। भारत सरकार की ओर से जारी आदेश के मुताबिक अंतरराष्ट्रीय सीमाओं के तहत होने वाली आवाजाही पर भी तय चेक पोस्ट पर नजर रखी जाएगी, हर चेक पोस्ट पर स्क्रीनिंग की जाएगी।

इसे अलग से गृह मंत्रालय की ओर से नोटिफाई किया जाएगा। सरकार ने कहा है भारतीय नागरिकों को कठोरतापूर्वक यह सलाह दी जाती है कि गैरजरूरी विदेशी यात्राएं न करें। यही नहीं संयुक्त राज्य अमेरिका ने यूरोप के सभी देशों पर अपने यहां आने पर प्रतिबंध लगा दिया है जिसका यूरोप के कई देश विरोध भी कर रहे हैं।

कोरोना वायरस संक्रमण से निपटने के लिए अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कड़ी नीत बनाई है। यही नहीं विश्व स्वास्थ्य संगठन ने इसे महामारी घोषित कर रखा है। विश्व स्वास्थ संगठन ने दुनिया को आगाह किया है कि कोरोना वायरस इस समय सबसे खतरनाक स्तर पर पहुंच चुका है जिस से सावधान रहने की जरूरत है नहीं तो यह यह वायरस दुनिया को तबाह भी कर देगा।

शंभू नाथ गौतम, वरिष्ठ पत्रकार