धर्मांतरण के मामलों की होनी चाहिए निष्पक्ष जांच : सतीश पूनियां

जयपुर। राजस्थान के भारतीय जनता पार्टी प्रदेश अध्यक्ष डॉ. सतीश पूनियां ने धर्मांतरण को दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए कहा है कि इसके मामलों की निष्पक्ष जांच की जानी चाहिए।

डा पूनियां ने जयपुर जिले में धर्मांतरण के मामले में मीडिया से बात करते हुए आज यहां यह बात कही। उन्होंने कहा कि राजस्थान कितना असुरक्षित इसका नमूना धर्मान्तरण है, राज्य में लव जेहाद और लैण्ड जेहाद की घटनाएं होती रही हैं, आवाज उठाने पर धर्मान्तरण थोड़े दिन के लिये रुका था, लेकिन अब फिर से हो रहा है, जो बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण है।

उन्होंने कहा कि प्रदेश की कांग्रेस सरकार सोती रही, कमज़ोर लोगों को सुनियोजित तरीके से टार्गेट किया जाता है और इन मामलों में भोले, आर्थिक कमजोर और निर्बल लोगों को टार्गेट किया जा रहा हैं।

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत गृह मन्त्री भी हैं और उनकी नाक के नीचे यह हो रहा। उन्होंने आरोप लगाते हुए इससे भी बड़ी चौंकाने वाली बात यह है कि धर्मांतरण के खिलाफ आवाज उठाने वाले लोगों को पुलिस द्वारा प्रताड़ित किया जा रहा है जबकि धर्मांतरण करवाने वाले लोगों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं हो रही है।

इससे यह इनकार नहीं किया जा सकता कि धर्मांतरण को राज्य सरकार का संरक्षण प्राप्त है, कांग्रेस की तुष्टीकरण और वोट बैंक की सियासत के तार भी इससे जुड़े हो सकते हैं, इस मामले की निष्पक्ष जांच होनी चाहिए, जिससे भविष्य में इसकी पुनरावृत्ति ना हो।