दिल्ली और पंजाब में होगी कांटे की टक्कर

There will be a fierce competition in Delhi and Punjab
There will be a fierce competition in Delhi and Punjab

मुंबई। अपने -अपने पिछले मुकाबले हारने के बाद टूर्नामेंट में तीसरे मुकाबले में उतरने जा रही दिल्ली कैपिटल्स और पंजाब किंग्स की टीमों के बीच मुंबई के वानखेड़े स्टडियम में होने वाले इस मैच में कांटे की टक्कर होगी।

दिल्ली ने मुंबई के इस मैदान में अपने पहले मुकाबले में चेन्नई सुपर किंग्स को एकतरफा अंदाज में सात विकेट से हराया था लेकिन इसी मैदान में उसे राजस्थान रॉयल्स के हाथों सात विकेट से हार का सामना करना पड़ा था। दूसरी तरफ पंजाब की टीम ने अपने पहले मुकाबले में मुंबई में राजस्थान रॉयल्स को चार रन से हराया था लेकिन चेन्नई में दूसरे मुकाबले में उसे कल चेन्नई सुपरकिंग्स के हाथों छह विकेट से हार का सामना करना पड़ा था।

पंजाब को चेन्नई के तेज गेंदबाज दीपक चाहर ने अपने पहले चार ओवरों में चार विकेट लेकर ऐसा झकझोरा था कि टीम अंत तक उबर नहीं पायी थी और 20 ओवरों में 106 रन तक ही पहुंच पायी थी। चेन्नई को यह लक्ष्य हासिल करने में कोई परेशानी नहीं हुई और उसने चार विकेट खोकर लक्ष्य हासिल कर लिया।

पंजाब को अब यह फैसला करना होगा कि उसे अपने कैरेबियाई ओपनर क्रिस गेल को ओपनिंग में उतारना है या तीसरे नंबर पर। पंजाब ने अपने शुरूआती दोनों मैचों में मयंक अग्रवाल को ओपनिंग में उतारा है लेकिन मयंक दो मैचों में 14 और शून्य बनाकर आउट हुए हैं जबकि गेल ने पहले मैच में 40 रन बनाये थे और दूसरे मैच में वह मात्र 10 रन बनाकर आउट हुए थे। पंजाब के एक और धुरंधर कैरेबियाई खिलाड़ी निकोलस पूरन दोनों मैचों में अपना खाता नहीं खोल पाए हैं जबकि कप्तान लोकेश राहुल पहले मैच में 91 रन बनाने के बाद दूसरे मैच में मात्र पांच रन बनाने के बाद रवींद्र जडेजा के सीधे थ्रो पर रन आउट हो गए थे।

दिल्ली भी काफी हद तक पंजाब की तरह अपने दोनों ओपनरों शिखर धवन और पृथ्वी शॉ पर काफी निर्भर है। शिखर और पृथ्वी पहले मैच में जमकर चले थे तो दिल्ली आसानी से मैच जीत गयी थी जबकि दूसरे मैच में दोनों सस्ते में आउट हुए तो दिल्ली को हार का सामना करना पड़ा। रविवार को होने वाले तीसरे मैच में दोनों टीमें काफी हद तक अपने ओपनिंग जोड़ीदारों पर निर्भर करेंगी कि वे अपनी टीमों को कैसी शुरुआत दे पाते हैं।

दोनों टीमों की पॉवरप्ले की गेंदबाजी मैच का फैसला करेगी कि मुकाबला किसके पक्ष में झुकेगा।