इस हास्य अभिनेता को देखकर ही दर्शकों के चेहरे पर आ जाती थी मुस्कान

Today is the death anniversary of Bollywood comedian Laxmikant Berde
Today is the death anniversary of Bollywood comedian Laxmikant Berde

मराठी और हिंदी सिनेमा के हास्य अभिनेता को देखकर दर्शकों के चेहराें पर अपने आप मुस्कान आ जाती थी। 90 के दशक में इस अभिनेता ने कई फिल्में सुपरहिट दी। प्रसिद्ध हास्य अभिनेता लक्ष्मीकांत बेर्डे ने मराठी तथा हिंदी फिल्मों में अपने अभिनय की अमिट छाप छोड़ी। लक्ष्मीकांत अपनी निजी जीवन और फिल्मी पर्दे पर भी लोगों को हंसाते रहें। दुनिया को हंसाने वाला यह कलाकार जल्द ही सभी को रुला गया।

आज हम बात कर रहे हैं बॉलीवुड के हास्य अभिनेता लक्ष्मीकांत बेर्डे की। लक्ष्मीकांत की आज पुण्यतिथि है। 16 दिसंबर 2004 को यह कॉमेडी कलाकार केवल 50 वर्ष की आयु में ही दुनिया को छोड़ कर चला गए। सिनेमा दर्शक आज भी इनके निभाए गए किरदारों को याद करते हैं। आज हम बात करेंगे कॉमेडी किंग लक्ष्मीकांत बेर्डे के फिल्मी सफर के बारे में।

मुंबई में हुआ था लक्ष्मीकांत का जन्म

हास्य अभिनेता लक्ष्मीकांत बेर्डे का जन्म 3 नवंबर 1954 को मुंबई में हुआ था। लक्ष्मीकांत को बचपन से ही एक्टिंग का शौक था। लक्ष्मीकांत कॉलेज में पढ़ाई के दौरान अभिनय क्षेत्र से जुड़ गए थ। मुंबई के गणेशोत्सव के दौरान वे नाटकों में छोटे रोल करते थे और बाद में मुंबई मराठी साहित्य संघ से जुड़े। उनका पहला मराठी नाटक ‘टूर टूर’ काफी हिट हुआ था इसके बाद उन्होंने शांतेचे कार्ट चालू आहे, बिघडले स्वर्गाचे दार, कार्ट चालू आहे जैसे सफल नाटकों में मुख्य भूमिका निभाई।

1985 में मराठी फिल्माें से की शुरुआत

लक्ष्मीकांत सबसे पहले उन्होंने अभिनय में अपना करियर बनाने के लिए मराठी फिल्मों में वह छोटे मोटे रोल करने लगे थे। कई फिल्मों में उन्होंने साइड रोल भी किए थे। लक्ष्मीकांत ने 1985 में मराठी फिल्म लेक ‘चालली सासरला’ में अभिनय कर फिल्म इंडस्ट्री में एंट्री की। उनकी मराठी फिल्म धुमधड़ाका, अशी ही बनवाबनवी , थरथराट आदि फिल्में काफी हिट हुई। इसके बाद लक्ष्मीकांत बेर्डे मराठी फिल्मों के सुपरस्टार बन चुके थे।

उसके बाद उन्होंने हिंदी फिल्म जगत में काम करना शुरू किया था। लक्ष्मीकांत ने ज्यादातर फिल्मों में कॉमेडी रोल किए थे। मराठी सिनेमा में उन्हें ‘कॉमेडी सुपरस्टार’ के नाम से जाना जाता था। हास्य अभिनेता लक्ष्मीकांत बेर्डे ने खुद अभिनय आर्ट्स नामक प्रोडक्शन हाउस भी खोला था। वे अभिनय के साथ इस संस्था से भी कई वर्षों तक जुड़े रहे।

वर्ष 1989 में आई ‘मैंने प्यार किया’ से हिंदी फिल्मों में की शुरुआत

मराठी फिल्मों में सफलता के बाद लक्ष्मीकांत बेर्डे ने वर्ष 1989 में हिंदी फिल्मों में प्रवेश किया। इसी साल आई ‘मैंने प्यार किया’ में उन्होंने सलमान खान के साथ शानदार भूमिका निभाई, जिसे दर्शक आज भी याद करते हैं । जिसके बाद लक्ष्मीकांत हिंदी फिल्मों में भी छा गए थे।  इसके बाद लक्ष्मीकांत बेर्डे ने ‘100 डेज’, ‘प्रतिकार’, ‘खंजर’, ‘संग्राम’, ‘अनाड़ी’, ‘हस्ती’, ‘हम आपके हैं कौन’, ‘साजन’, ‘ढाल’, ‘बेटी नंबर 1 ‘, ‘दिल का क्या कशूर‘, ‘गीत’, और ‘तक़दीर वाला’ जैसी हिंदी फिल्मों में काम किया था। उन्होंने तब सलमान की कई फिल्मों में एक नौकर की भूमिका निभाई थी।

लेकिन देखा जाये तो उनकी यह भूमिका किसी स्टार के काम से कम नहीं थी। वह आज भी कई लोगों के दिलों में बसते हैं। इसके साथ ही उन्होंने कई टीवी शो में भी काम किया था। मराठी और हिंदी फिल्मों को मिलाकर 200 से ज्यादा फिल्मों में लक्ष्मीकांत ने अभिनय किया था। लक्ष्मीकांत बेर्डे ने अपने जमाने में लाखों दर्शको को हंसाया था। 90 के दशक में लक्ष्मीकांत ने सलमान खान की कई फिल्मों में कभी उनके दोस्त का तो कभी उनकी फैमिली के नौकर का रोल प्ले किया। सलमान और उनकी जोड़ी को लोगों ने काफी पसंद किया गया।

कॉमेडी किंग लक्ष्मीकांत बेर्डे का निजी जीवन इस प्रकार रहा

हिंदी और मराठी फिल्मों की एक्ट्रेस रूही बेर्डे से लक्ष्मीकांत ने शादी की थी। दोनों के दो बच्चे एक बेटा और एक बेटी भी हैं। रूही ने फिल्म ‘हम आपके हैं कौन’ में उनके साथ काम किया था। लेकिन कुछ समय बाद दोनों अलग हो गए। इसके बाद बेर्दे एक्ट्रेस प्रिया अरुन को डेट करने लगे और साथ में रहने लगे। दोनों ने अपनी शादी के बारे में किसी को नहीं बताया । साथ में रहते हुए दोनों के दो बच्‍चे तेजस्विनी और अभिनय भी हुए। कम ही लोग जानते होंगे कि कॉमेडी किंग लक्ष्मीकांत एक अच्छे गरुण वादक और गिटार वादक भी थे।

50 वर्ष की आयु में ही दुनिया को कह गए अलविदा

मराठी व हिंदी फिल्मों के हास्य अभिनेता बहुत ही कम आयु में लाखों प्रशंसकों को रुला गए। आज के ही दिन लोगों के चेहरों पर मुस्कान बिखेरने वाले अभिनेता का 50 वर्ष की उम्र में 16 दिसंबर 2004 को गुर्दे की बीमारी से निधन हो गया था। लगभग 20 वर्षों तक लक्ष्मीकांत ने मराठी और हिंदी फिल्मों में काम किया। लक्ष्मीकांत मराठी फिल्मों की जान थे। मराठी सुपरस्टार रहे हास्य अभिनेता दादा कोंडके के बाद लक्ष्मीकांत बेर्डे को ही जबरदस्त पहचान मिली थी।

शंभू नाथ गौतम, वरिष्ठ पत्रकार