मेरे मैडल जीतने के बाद लड़कियों की सोच में बदलाव आएगा : मीराबाई चानू

इंफाल/नई दिल्ली/टोक्यो। टोक्यो ओलम्पिक में रजत पदक जीत कर इतिहास बनाने वाली महिला भारोत्तोलक मीराबाई चानू ने टोक्यो से नई दिल्ली में संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि उनके इस पदक के बाद देश की लड़कियों के सोच में बदलाव आएगा और ज्यादा से ज्यादा लडकियां खेलों में सामने आएंगी।

मीराबाई ने कहा कि मैं कम लड़कियों को मैदान में उतरते देखती हूं लेकिन मेरे इस पदक के बाद उनकी सोच बदलेगी और वे ज्यादा से ज्यादा संख्या में खेलों में उतरेंगी।

रजत जीतने के बाद मीराबाई ने कहा कि पिछले रियो ओलम्पिक में उन्होंने जो गलतियां की थीं उससे उन्होंने सबक लेकर पिछले पांच वर्षों में सुधार किया जिसका अच्छा परिणाम सामने आया है।

मीरा के साथ उनके कोच विजय भी बैठे हुए थे और उन्होंने कहा कि वह 2014 से मीरा के साथ टीम के रूप में जुड़े थे और रियो में उनसे उम्मीद थी लेकिन उन्होंने रियो की नाकामी के बाद उन्होंने मीरा के साथ कड़ी मेहनत कीऔर पिछली गलतियों को दूर करने पर काम किया।

मीरा के गले में इस दौरान उनका रजत पदक टंगा हुआ था। उन्होंने बताया कि पिछले पांच वर्षों में वह सिर्फ पांच दिन के लिए अपने घर गई थीं और इस दौरान उन्होंने अपना सारा ध्यान सिर्फ अपनी ट्रेनिंग पर लगा रखा था।

चानू की उपलब्धि पर मणिपुर में हर्षाेल्लास, जश्न

टोक्यो ओलंपिक में रजत पदक से भारत का खाता खोलने पर भारोत्तोलक सैखोम मीराबाई चानू के शानदार प्रदर्शन का जश्न पूरे मणिपुर के लोगों ने मनाया। पूर्व विश्व चैंपियन भारोत्तोलक मीराबाई चानू ने ऐतिहासिक प्रदर्शन करते हुए महिलाओं के 49 किग्रा वर्ग में शनिवार को रजत पदक जीतकर भारत को टोक्यो ओलम्पिक का पहला पदक दिला दिया।

कोरोना के कारण पूरे राज्य में लागू कर्फ्यू के बावजूद मीराबाई के अपने राज्य में कई स्थानों पर उनकी जीत का जश्न मनाया गया। मीराबाई के माता-पिता तथा परिवार के अन्य सदस्य यहां नोंगपोक काकचिंग में अपने घर पर टेलीविजन सेट से चिपके हुए थे और रजत पदक जीतते ही वे सभी खुशी से झूम उठे।

मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह ने एक सोशल नेटवर्क प्लेटफॉर्म में कहा कि क्या दिन है! भारत के लिए क्या जीत है। मीराबाई चानू ने भारोत्तोलन महिला 49 किग्रा वर्ग में रजत पदक जीता। भारत ने टोक्यो ओलंपिक में पदक तालिका की शुरुआत कर दी है। आपने आज देश को गौरवान्वित किया है। वाह।

मणिपुर ओलंपिक संघ के अध्यक्ष डॉ. टी राधेश्याम ने कहा कि आज हम सभी भारतीयों के लिए एक महान दिन है क्योंकि मीराबाई चानू ने टोक्यो ओलंपिक में 49 वर्ग भारोत्तोलन में रजत पदक जीता है। हमें उम्मीद है कि दूसरे एथलीट भी देश का नाम रौशन करने में सफल होंगे।

वर्ष 2014 राष्ट्रमंडल खेलों में चानू ने 48 किलो भार वर्ग में रजत पदक जीता, वर्ष 2016 रियो ओलंपिक में भाग लिया, चानू ने अमेरिका के अनाहेम में वर्ष 2017 में आयोजित विश्व भारोत्तोलन चैंपियनशिप में महिलाओं के 48 किग्रा वर्ग में स्वर्ण पदक जीता।

वर्ष 2000 के ओलंपिक में मल्लेश्वरी के कांस्य पदक जीतने के बाद उन्होंने भारत को भारोत्तोलन में पदक दिलाया। चानू ने 84 किग्रा और 87 किग्रा भार उठाया। चीन की झिहू ने स्वर्ण पदक जीता।

कांग्रेस ने भारत के लिए ओलंपिक रजत पदक जीतने पर सैखोम मीराबाई चानू को बधाई दी। मणिपुर के कांग्रेस प्रभारी और पूर्व केंद्रीय खेल मंत्री भक्त चरण दास, जो इंफाल में ही हैं, ने मीराबाई चानू को राष्ट्र के लिए ओलंपिक पदक जीतने पर बधाई दी।

उन्होंने कांग्रेस भवन में उस समय इंफाल में होने पर गर्व व्यक्त किया जब भारत को टोक्यो ओलंपिक में अपना पहला पदक मिला। उन्होंने मीराबाई चानू के लिए कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी का बधाई संदेश भी साझा किया। दास ने प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कहा कि देश को मणिपुर की मिट्टी की बेटी पर गर्व है।