रेप पीड़िता से पद्मश्री पुरस्कार विजेता तक, प्रेरणादायी है मंजम्मा का जीवन

बेंगलूरु। पद्मश्री प्राप्त करने से पहले उन्होंने राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद के सिर पर अपनी साड़ी का पल्लू रखी और फिर दोनों हाथों से फर्श को स्पर्श किया। राष्ट्रपति भवन में मौजूद गणमान्य व्यक्तियों ने तालियों से उनका स्वागत किया और श्री कोविंद ने हाथ जोड़कर उनका अभिवादन किया।

लेकिन क्या आप जानते हैं कि राष्ट्रपति किसका सम्मान कर रहे थे? वह है?, जिसके साथ कई बार बलात्कार किया गया था और कई वर्षों तक जीवित रहने के लिए भीख मांगी, जब तक कि उसने एक संभावित लोक नर्तक होने की अपनी गुप्त प्रतिभा को नहीं परखा। जब उसने लगभग अपने दर्दनाक जीवन को समाप्त करने का फैसला किया था। वह है कर्नाटक की ट्रांसजेंडर कलाकार एवं पद्मश्री माता बी मंजम्मा जोगाठी।

कर्नाटक के बेल्लारी में मंजूनाथ शेट्टी के रूप में जन्मी, मंजम्मा एक महिला के रूप में पहचाने जाने की चाहत के लिए अपने पिता की उपेक्षा का शिकार रही, जिसमें उनकी कोई गलती नहीं थी। स्कूल में उन्हें लड़कियों के साथ घूमना और डांस करना बहुत पसंद था। उनके भाई ने महसूस किया कि वह किसी ‘देवी’ के साथ है और उसे एक खंभे से बांध दिया गया और पीटा गया।

बाद में एक पुजारी ने बाद में कहा कि उसे देवी शक्ति का आशीर्वाद प्राप्त है, लेकिन मंजम्मा के पिता ने मानने से इनकार कर दिया और उसे अपने लिए मृत घोषित कर दिया। वर्ष 1975 में उन्हें होस्पेट के पास हुलिजेम्मा मंदिर ले जाया गया, जहां उनका नाम बदल दिया गया। अपने बेटे को औरत के कपड़े पहने देखकर उनकी मां यह कहते हुए बहुत रोई कि उसने अपना बेटा हमेशा के लिए खो दिया।

निर्दयी पिता ने मंजम्मा को घर से बाहर निकाल दिया, जहां से उनका कठिन जीवन शुरू हुआ, क्योंकि वह सड़कों पर भीख मांगने के लिए भटकती थी और कई बार बलात्कार की शिकार हुई। वह बीमारी के कारण कई दिनों तक अस्पताल में भी रही और एक बार तो छह लोगों ने मिलकर उसके पैसे लूट लिए और उसके साथ दुष्कर्म किया।

मंजम्मा ने लगभग अपना जीवन समाप्त करने के बारे में फैसला कर लिया था, लेकिन फिर उसने एक आदमी और उसके बेटे को सिर पर बर्तन लिए नाचते देखा। यह था जोगाठी नृत्य।

इसके बाद उसने कला सीखना शुरू कर दिया और कुशल नर्तक बन गई। जल्द ही उन्हें सिनेमाघरों में अभिनय के प्रस्ताव मिलने लगे, लेकिन मंजम्मा यहीं नहीं रुकीं। उन्होंने विभिन्न महिला देवताओं की प्रशंसा में अन्य कला रूपों, जनपद गीतों, कन्नड़ भाषा के सॉनेट्स में भी महारत हासिल की।

इस उपलब्धि के लिए मंजम्मा को 2010 में कर्नाटक राज्योत्सव पुरस्कार से सम्मानित किया गया। वर्ष 2006 में उन्हें कर्नाटक जनपद अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया और 2019 में उन्हें संस्था का अध्यक्ष नियुक्त किया गया। इसके साथ ही वह इस पद पर काबिज होने वाली पहली ट्रांसजेंडर बनीं।