यज्ञ चिकित्सा से संभव है असाध्य बीमारियों का उपचार : हेमन्त आर्य

अजमेर। य़ज्ञ में समिधा के रूप में उपयोग ली गई आयुर्वेदिक औषधियों से विभिन्न असाध्य रोगों का उपचार भी किया जा सकता है।

पंतजलि योगपीठ हरिद्वार से प्रशिक्षित आचार्य हेमन्त आर्य ने कहा कि मधुमेह, रक्तचाप, सरदर्द, पुराना जुखाम, बुखार एवं जोड़ों के दर्द सहित विभिन्न शारीरिक व्याधियों का उपचार यज्ञ के माध्यम से किया जा सकता है। उन्होंने यह बात पतंजलि चिकित्सालय जनता कॉलोनी वैशाली नगर की ओर से आयोजित निःशुल्क यज्ञ प्रशिक्षण शिविर में शनिवार को कहीं।

शिविर के दूसरे दिन प्रतिभागियों को बीमारी दूर करने में यज्ञ की उपयोगिता के बारे में जानकारी प्रदान की गई। आयुर्वेदिक औषधियों का यज्ञ करने से उनका धुम्र नेनोमेडिसिन के रूप में प्रभावकारी होता है।

यह प्रभाव आसपास के वातावरण में उपस्थित समस्त प्राणियों पर सकारात्मक होता है। सर्व रोग निवारण के लिए गुग्गल, वच, गंध, नीम के पत्ते, आक के पत्ते, अगर, राल, देवदारू एवं मसूर का उपयोग यज्ञ में करना चाहिए।

उन्होंने कहा कि टाइफाईड के लिए नीम, चिरायता, पितपापडा एवं त्रिफला, ज्वर के लिए अजवायन, जुखाम एवं सरदर्द के लिए मुनक्का, दिमाग तेज करने के लिए शहद एवं चंदन, वात रोग के लिए पिप्पली, मनोविकार के लिए गुग्गल एवं अपामार्ग, मानसिक उन्माद के लिए सीताफल के बीज एवं जटामांसी, पीलिया के लिए देवदारू, चिरायता, नागरमोथा, कुटकी एवं वायविडंग, मधुमेह के लिए गुग्गल, लोबान, जामुन की छाल एवं करेला के डंठल, चित्त भ्रम के लिए कचूर, खस, नागरमोथा, महुआ, सफेद चंदन, गुग्गल, अगर, बड़ी ईलायची, नरवी एवं शहद तथा टीबी के लिए गुग्गल, सफेद चंदन, अडूसा एवं कपूर की यज्ञ में आहूति देने से लाभ होता है।

इसी प्रकार मलेरिया के लिए गुग्गल, लोबान, कपूर, कचूर, हल्दी, दारूहल्दी, अगर, वायविडंग, जटामांसी, वच, देवदारू, कठु, अजवायइन एवं नीम के पत्ते, निमोनिया के लिए पोहकर, वच, लोबान, गुग्गल एवं अडूसा, जुखाम के लिए खुरासानी अजवायइन, जटामांसी, पसमीना कागज एवं लाल बूरा, सायनस के लिए बरगद के पत्ते, तुलसी, नीम के पत्ते, वायविडंग एवं सहजना छाल, कफ के लिए बरगद के पत्ते, तुलसी, वच, पोकर एवं अडूसा, सरदर्द के लिए काले तिल एवं वायविडंग, खसरे के लिए गुग्गल, लोबान, नीम के पत्ते, गंधक, कपूर, काले तिल एवं वायविडंग, दमे के लिए अदरक के पत्ते, तुलसी, वच, पोहकर एवं अडूसा तथा कैंसर के लिए गूलर, अशोक, अर्जुन, लोध्र, माजूफल, दारूहल्दी, खोपरा, तिल, जौ, चिकनी सुपारी, शतावर, काकजंगा, मोचरस, खस, मंजिष्ट, अनारदाना, सफेद चंदन, लाल चंदन, गंधा, विरोजा, नरवी, जामुन पत्ते, धाय के पत्ते एवं केसर की आहुति दी जाती है।