जब उड़ी थी वाजपेयी की मौत की अफवाह

Sabguru News नमस्कार दोस्तों आज हमारे बीच पूर्व प्रधान मंत्री नहीं रहे लेकिन उनके निधन के पहले 2015 में उनकी मौत की अफवाह उड़ चुकी है बात कुछ इस तरह से है की साल 2015 में वाजपेई की सोशल मीडिया पर निधन की खबर वायरल हो गई इसके चलते कई लोगो ने तो उन्हें फेसबुक पर ही श्रद्धांजलि दे दी।

vajpayee-alive-fake-news-in-2015
vajpayee-alive-fake-news-in-2015

बात यहाँ तक खत्म नहीं होती अफवाह उड़ीसा के एक स्कूल में तो उन्हें श्रद्धांजलि दे दी गई और स्कूल की छुट्टी कर दी गई हलाकि तब वह के जिला अधिकारी ने सच्चाई  बंया करी और स्कूल के प्रधनाध्यपक को निलंबित कर दिया, अधिक जानकारी के लिए देखिए वीडियो, या विजिट करें Sabguru News का यूट्यूब चैनल।

श्रद्धांजलि में मोदी ने किए 7 ट्वीट
श्रद्धांजलि में मोदी ने 7 ट्वीट किए। उन्होंने कहा कि मैं नि:शब्द हूं, शून्य में हूं, लेकिन भावनाओं का ज्वार उमड़ रहा है। हम सभी के श्रद्धेय अटल जी हमारे बीच नहीं रहे। यह मेरे लिए निजी क्षति है। अपने जीवन का प्रत्येक पल उन्होंने राष्ट्र को समर्पित कर दिया था। उनका जाना, एक युग का अंत है। लेकिन वो हमें कहकर गए हैं- मौत की उमर क्या है? दो पल भी नहीं, जिंदगी सिलसिला, आज कल की नहीं। मैं जी भर जिया, मैं मन से मरूं, लौटकर आऊंगा, कूच से क्यों डरूं?

वाजपेयी को राजनेताओं की श्रद्धांजलि : देश ने खोया महान सपूत

जब पूरी BJP अटलजी के लिए कर रही थी दुआ, मंत्री भदेल निबटा रही थीं सरकारी काम

भारतीय राजनीति के क्षितिज को तेजस्वी तारा अस्त हो गया: सुमित्रा महाजन