उदयपुर में धार्मिक उन्मादियों ने की दर्जी की हत्या, दो अरेस्ट

उदयपुर। राजस्थान के उदयपुर में मंगलवार को समुदाय विशेष के दो व्यक्तियों ने एक दर्जी की उसकी दुकान में कपड़ा नपवाने के बहाने घुसकर धारदार हथियारों से हत्या कर दी।

प्रथम दृष्टया यह धार्मिक उन्माद का मामला प्रतीत होता है क्योंकि हमलावरों ने घटना का वीभत्स वीडियो जारी किया जिसमें वे इस कृत्य को ‘गुस्ताखे रसूल’ का बदला करार देते हुए दिख रहे हैं। राजस्थान पुलिस ने इन हमलावरों को घटना के कुछ घंटे की भीतर राजसमंद जिले से गिरफ्तार कर लिया।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने घटना को चिंताजनक बताते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह से देश में माहौल सुधारने के लिए अपील जारी करने का आग्रह किया।

भारतीय जनता पार्टी ने हमलावरों को समयबद्ध तरीके से अदालती कार्रवाई करते हुए फांसी की सजा दिलाने की मांग की है और कहा है कि राजस्थान में गहलोत सरकार विफल है और जिहादी तत्वों पर कोई लगाम नहीं रह गयी है।

पुलिस के अनुसार उदयपुर के धानमंडी इलाके के भूत महल क्षेत्र में दर्जी की दुकान चलाने वाले कन्हैयालाल की हत्या कर दी गई। हमलावरों ने धारदार हथियार से प्रहार कर उसकी गर्दन धड़ से अलग कर दी। दुकान में उस समय सात लोग थे। हमले में कन्हैया लाल के एक साथी ईश्वर सिंह को गंभीर चोट आई हैं, जिसे एमबी हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है।

घटना के बाद क्षेत्र में तनाव पैदा हो गया और आक्रोशित लोगों ने बाजार बंद कराए और नारेबाजी की। कुछ जगह पर भीड़ ने सड़कों पर टायर आदि जलाकर विरोध प्रदर्शन किया। प्रशासन ने घटना के बाद उदयपुर में एहतियात के तौर पर इंटरनेट सेवा बंद कर दी थी। शहर में कम से कम सात थाना क्षेत्रों में निषेधाज्ञा लागू कर दी गई है।

बताया जा रहा है कि कन्हैया लाल ने भाजपा की पूर्व प्रवक्ता नुपूर शर्मा के समर्थन में कोई ट्वीट किया था और उसका बदला लेने के लिए उसकी हत्या की गई है। कन्हैया लाल को इससे पहले धमकियां भी मिल रहीं थी और उसने कुछ युवकों के खिलाफ पुलिस में नामजद शिकायत की थी।

गहलोत ने ट्वीट लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की है। उन्होंने कहा कि उदयपुर में युवक की जघन्य हत्या की भर्त्सना करता हूं। इस घटना में शामिल सभी अपराधियों के खिलाफ कठोर कार्रवाई की जाएगी। पुलिस अपराध की पूरी तह तक जाएगी। मैं सभी पक्षों से शांति बनाए रखने की अपील करता हूं।

ऐसे जघन्य अपराध में लिप्त हर व्यक्ति को कड़ी से कड़ी सजा दिलाई जाएगी। मैं सभी से अपील करता हूं कि इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल करके माहौल खराब करने का प्रयास न करें। वीडियो शेयर करने से अपराधियों का समाज में घृणा फैलाने का उद्देश्य सफल होगा।

गहलोत ने संवाददाताओं से बातचीत करते हुए कहा कि कुछ कारणों से इस समय पूरे देश का माहौल खराब है। उन्होंने कहा कि मोदी और शाह को जनता से अपील करनी चाहिए।

उदयपुर की घटना पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए भाजपा प्रवक्ता गौरव भाटिया ने ट्विटर पर एक बयान में कहा कि राजस्थान का मतलब जंगलराज, जिहादी सोच पर कोई लगाम नहीं क्योंकि वह तो वोटबैंक है। उन्होंने ‘दरिंदों’ को समयबद्ध तरीके से फांसी की सजा दिए जाने की मांग करते हुए कहा कि राजस्थान के उदयपुर में एक दर्जी कन्हैयालाल की गर्दन काटकर हत्या कर दी गयी। हत्यारों ने इसका वीडियो भी वायरल किया। ऐसे दरिंदों को फांसी की सजा हो, वह भी समयबद्ध तरीके से।

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने इस घटना पर कहा कि उदयपुर में हुई हत्या की घटना से मैं स्तब्ध हूं, धर्म के नाम बर्बरता बर्दाश्त नहीं की जा सकती। इस हैवानियात से आतंक फैलाने वालों को तुरंत सख्त सजा दी जाए, हम सबको नफरत को हराना है।