भीलवाड़ा में तस्करों की फायरिंग में दो पुलिसकर्मियों की मौत

भीलवाड़ा। राजस्थान के भीलवाड़ा जिले में शनिवार देर रात तस्करों की फायरिंग में दो पुलिसकर्मियों की मौत हो गई।

प्राप्त जानकारी के अनुसार फायरिंग करते हुए एक दर्जन तस्कर सौ किलोमीटर ज़िला सीमा पार कर फरार हो गये। राजस्थान के पुलिस महानिदेशक मोहन लाल लाठर तथा अजमेर रेंज पुलिस महानिरीक्षक इस घटना के बाद भीलवाड़ा के लिए रवाना हुए हैं।

शनिवार रात कोटडी पुलिस थाने का पुलिस जाब्ता रूटीन नाकेबंदी कर रहा था। इस बीच, तीन स्कॉर्पियो, पिकअप और एक अन्य वाहन नाकाबंदी स्थल पर पहुंचे। इन वाहनों में शराबी युवकों द्वारा तेज़ वाहन चलाने की सूचना के चलते नाकाबंदी में लगे जाब्ते में शामिल सिपाही ओंकार गायरी से तस्करों की बहस हो गई। इस दौरान तस्करों ने उस पर फायरिंग कर दी। एक गोली ओंकार के सीने में जा लगी और उनकी मौत हो गई। तस्कर नाकाबंदी तोड़कर वाहनों को तेजी से भगा ले गए।

बताया गया कि पिकअप सहित तीन वाहन रास्ता बदल कर ग़ायब हो गए जबकि एक काली स्कॉर्पियो में सवार तस्कर अजमेर रोड के रायला थाना क्षेत्र से निकले गए। रायला थाने की टीम ने उन्हें रोकने का प्रयास किया जहाँ इन तस्करों ने पुलिस पर फायरिंग की। इस घटना में कांस्टेबल पवन चौधरी गंभीर रूप से घायल हो गए। बाद में चौधरी ने रायला अस्पताल में दम तोड़ दिया।

पुलिस ने बताया की बदनौर, आसींद, शंभुगढ़, गुलाबपुरा थाना की गाड़ियों ने तस्करों को घेरने का प्रयास किया लेकिन वे शंभुगढ़ इलाके में फायरिंग करते हुए जिले से बाहर निकल गए जिनका पता नहीं चल पाया। ब्यावर इलाक़े में भी उनके द्वारा बचाव में फ़ायरिंग करने की सूचना है।

सूत्रों ने बताया की तस्करों की एक गाड़ी जिसने डोडा भरा हुआ था पंचर हो गई जिसका टायर बदलने का प्रयास भी किया गया पर पुलिस के पहुंच जाने पर तस्कर उसे शंभुगढ़ थाना क्षेत्र में सड़क पर छोड़ कर भाग गए। पुलिस ने शंभुगढ़ इलाक़े में पिकअप से डोडा बरामद किया है। तस्कर जोधपुर जिले के डाँगियावास के बताए जाते हैं।