बाबा योगेन्द्र के निधन पर राज्यपाल और मुख्यमंत्री ने शोक व्यक्त किया

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने संस्कार भारती के सरंक्षक बाबा योगेन्द्र के शुक्रवार को हुए निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया है।

राज्यपाल ने अपने शोक संदेश में कहा कि ‘संस्कार भारती’ के संस्थापक, असंख्य कला प्रेमियों के प्रेरणास्रोत, कला ऋषि, पद्मश्री बाबा योगेन्द्र जी का निधन राष्ट्र के लिये अपूर्णीय क्षति है। उन्होंने दिवंगत आत्मा की चिर शान्ति व उनके असंख्य प्रशंसकों को दुःख सहने की शक्ति प्रदान करने की ईश्वर से कामना की है।

मुख्यमंत्री कार्यालय की ओर से जारी बयान के अनुसार योगी ने अपने शोक संदेश में कहा कि बाबा योगेन्द्र कला के प्रति समर्पित रहे। उन्होंने नवोदित कलाकारों को हमेशा प्रोत्साहित किया। उनके निधन से कला जगत को अपूर्णीय क्षति हुई है। उन्होंने दिवंगत आत्मा की शांति की कामना करते हुए शोक संतप्त परिजनों के प्रति संवेदना व्यक्त की है।

गौरतलब है कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के वरिष्ठ प्रचारक एवं संस्कार भारती के संरक्षक पद्मश्री बाबा योगेंद्र का यहां एक अस्पताल में शुक्रवार को सुबह निधन हो गया था। वह 98 वर्ष के थे। बाबा योगेंद्र पिछले कुछ समय से अस्वस्थ्य थे तथा उनका लखनऊ स्थित एक अस्पताल मे उपचार चल रहा था। सुबह करीब 8 बजे उन्होंने अंतिम सांस ली।

बाबा योगेंद्र कला के क्षेत्र में काम करने वाली संस्था संस्कार भारती के संस्थापक थे। उनका जन्म 7 जनवरी 1924 को उत्तर प्रदेश के बस्ती जिले में हुआ था। बचपन में ही वह गांव में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की शाखा में जाने लगे। इसके बाद गोरखपुर में पढ़ाई के दौरान उनका संपर्क संघ के प्रचारक नानाजी देशमुख से हुआ। संघ का प्रशिक्षण प्राप्त करने के बाद वह प्रचारक बने।