मोदी के कानपुर दौरे में खलल डालने का प्रयास करने वाले 5 सपा पदाधिकारी अरेस्ट

कानपुर। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के दौरे में खलल डालने वाले समाजवादी पार्टी के पांच पदाधिकारियों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है जिसके बाद सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने पकड़े गए पांचों पदाधिकारियों को पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया है।

दरअसल, मंगलवार को कानपुर मेट्रो का उदघाटन करने के बाद मोदी निराला नगर में जनसभा को सम्बोधित कर निकले, तभी सपाईयों ने प्रधानमंत्री का पुतला फूंकते हुए एक कार में तोड़फोड़ कर दी। वीडियो वायरल होते ही पुलिस ने तत्परता दिखाते हुए कार मालिक को दबोच लिया। पूछताछ के बाद भेद खुला और पुलिस ने तोड़फोड़ करने वाले चार अन्य सपाईयों को लखनऊ से गिरफ्तार कर लिया।

गौरतलब है कि निराला नगर में आयोजित जनसभा के बाद प्रधानमंत्री का काफिला सड़क मार्ग से खराब मौसम के चलते रवाना हुआ। इस दौरान नौबस्ता में कुछ सपाई युवकों द्वारा प्रधानमंत्री का पुतला फूंका गया और वहां से गुजर रही एक कार में तोड़फोड़ कर दी गई। मामले का सच देर रात पता चलने पर सक्रिय हुई पुलिस ने चार लोगों बुधवार को गिरफ्तार कर लिया, जबकि कार मालिक अंकुर पटेल को देर रात ही दबोच लिया गया था। पुलिस ने तोड़ी गई कार भी बरामद कर ली है।

पुलिस आयुक्त असीम अरूण ने ऐसा करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की बात कही। पुलिस ने जांच में पाया गया कि प्रधानमंत्री की रैली को लेकर बड़ा बवाल रचने की साजिश रची गई थी। इस तोड़फोड़ के जरिए माहौल को भड़काने का मकसद भी सामने आया।

अपर पुलिस आयुक्त कानून एवं व्यवस्था आनंद प्रकाश तिवारी ने बताया कि मामले में चार लोगों को लखनऊ से गिरफ्तार किया गया है। इसमें सपा छात्र सभा के राष्ट्रीय सचिव सचिन केसरवानी, साथी सुकांत शर्मा (मुलायम सिंह यूथ ब्रिगेड का जिला प्रवक्ता), अभिषेक रावत (यूथ ब्रिगेड का नगर सचिव), अनिकेत कुमार पकड़े गए हैं। अपर पुलिस आयुक्त ने बताया कि बाकी अन्य चार लोगों की तेजी से तलाश की जा रही है।

पुलिस ने नौबस्ता थाने में कानपुर के आरोपी सपा नेताओं के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की अलग-अलग धाराओं में एफआईआर दर्ज की थी।