अमरीका समेत कई देश रूस के खिलाफ एकजुट, 100 से अधिक रूसी राजनयिक निष्कासित

US and EU expel more than 100 Russian, diplomats over skripal case

वाशिंगटन। अमरीका, यूरोपीय देश, कनाडा और यूक्रेन ने इंग्लैड में रह रहे पूर्व रूसी जासूस सर्गेई स्क्रीपल काे कथित रूप से नर्व गैस देकर मारने की घृणित, जघन्य और दुस्साहसिक कोशिश के आरोप में कड़ा रूख अपनाते हुए उसके 100 से अधिक राजनयिकों को अपने-अपने देशों से बाहर करने का फैसला किया है।

इसके साथ ही अमरीका ने सीटेल स्थित रूस के वाणिज्य दूतावास को भी बंद करने का आदेश दिया है। अमरीकी राष्ट्रपति डाेनाल्ड ट्रम्प ने सबसे अधिक 60 रूसी राजनयिकों को निकालने का आदेश दिया जो रूस के खिलाफ सबसे बड़ा कदम है।

व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव एस सैन्डर्स ने एक बयान जारी करके कहा कि ट्रम्प ने 60 जिन रूसी राजनयिकों को देश से निलाने का अादेश दिया है उनमें से 48 वाशिंगटन स्थित रूसी दूतावास में रूस के लिए कथित रूप से खुफिया एजेंट की तरह काम रहे थे और 12 राजनयिक न्यूयॉर्क स्थित संयुक्त राष्ट्र में पदस्थ हैं।

सैन्डर्स ने कहा कि ब्रिटेन की धरती पर रूस द्वारा अपने पूर्व जासूस और उसकी बेटी पर कथित रूप से सैन्य स्तर के रासायनिक हथियार से हमला करके मारने की कोशिश के खिलाफ हमने नाटो देशों के अपने सहयोगियों के साथ एकजुटता का प्रदर्शन करते हुए यह कदम उठाया है।

इस बीच रूस ने दोहरे एजेंट के रूप में काम करने वाले अपने पूर्व राजनियक को मारने के आरोप का खंडन करते हुए पश्चिमी देशों द्वारा उसके राजनयिकों के निष्कासन पर अफसोस जताया है। उसने ने कहा है कि इस संबंध में परस्पारिकता के सिद्धांत पर कदम उठाया जाएगा।

क्रेमलिन के प्रवक्ता दामित्री पेस्कोव ने पत्रकारों से कहाकि राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन राजनयिकों के निष्कासन के जवाब में अंतिम फैसला लेंगे कि किस तरह इसका जवाब दिया जाए।

ब्रिटेन की प्रघानमंत्री थेरेसा मे ने कहा कि रूस के नागरिकों से हमारा कोई बैर नहीं है। रूस के लोगों ने अपने देश के महान इतिहास की बदौलत काफी तरक्की की है लेकिन उनके राष्ट्रपति का शासन हमारी साझे मूल्यों के उलट आक्रमकता के कदम की ओर अग्रसर है। ब्रिटेन इस तरह के किसी भी कदम के खिलाफ यूरोपीय और नाटो देशों के साथ कंधा से कंधा मिलाकर खड़ा है।

कनाडा ने भी ब्रिटेन के साथ एकजुटता दिखाते हुए कहा कि वह चार रूसी राजनयिकों को निष्कासित कर रहा है और तीन अन्य को आधिकारिक मान्यता देने से इंकार कर रहा है। कनाडियाई विदेश मंत्री क्रिस्टिया फ्रीलैंड की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि हमने चार ऐसे लोगाें की पहचान की है, जो खुफिया अधिकारी या ऐसे व्यक्ति हैं, जिन्होंने कनाडा की सुरक्षा या हमारे लोकतंत्र को कमजोर करने के लिए अपने राजनयिक दर्जे का इस्तेमाल किया है।