अमरीका की अपने नागरिकों को जम्मू-कश्मीर की यात्रा नहीं करने की सलाह

वाशिंगटन। अमरीका ने आतंकवादी हमले की आशंका के कारण अपने नागरिकों को जम्मू-कश्मीर की यात्रा नहीं करने के लिए परामर्श जारी किया है।

व्हाइट हाउस के ब्यूरो प्रमुख स्टीव हरमन ने शनिवार को ट्वीट किया कि जम्मू-कश्मीर में आतंकवादी हमले की बढ़ती आशंका को लेकर ‘लेवल टू’ यात्रा चेतावनी जारी की गई है। स्टीव ने ट्वीट किया कि आतंकवाद के खतरे और नागरिकों के बीच उपजे तनाव और सशस्त्र संघर्ष की आशंका के मद्देनजर पाकिस्तान से लगी उसकी सीमा से 10 किलोमीटर के अंदर जाने से अमरीकी नागरिकों को मना किया गया है।

परामर्श में कहा है कि आतंकवादी पर्यटन स्थलों, बस अड्डों, रेलवे स्टेशनों, बाजार, शॉपिंग मॉल और सरकारी कार्यालयों को निशाना बनाकर हमला कर सकते हैं। जम्मू-कश्मीर के पुलावामा में 14 फरवरी को केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल के काफिले पर एक आत्मघाती हमले में 40 से अधिक जवान शहीद हो गए थे और पाकिस्तान स्थित जैश ए मोहम्मद संगठन ने उस हमले की जिम्मेदारी ली थी।

पाकिस्तान और भारत के बीच उत्पन्न तनाव के कारण अमरीका ने अपने नागरिकों के लिए यह चेतावनी जारी की है। उल्लेखनीय है कि पुलवामा हमले के बाद भारत ने 26 फरवरी को सीमा पर आतंकवादी समूहों के ठिकानों पर हवाई कार्रवाई की थी जिसके बाद पाकिस्तान ने जम्मू-कश्मीर के नौशेरा सेक्टर में अपने लड़ाकू विमान एफ-16 का इस्तेमाल करते हुए हमले की कोशिश की थी।

भारतीय विंग कमांडर अभिनंदन ने अपने मिग-21 विमान से पाकिस्तान के विमान में मार गिराया था। उनके विमान को भी निशाना बनाया गया था, हालांकि वह पैराशूट से कूदने में सफल रहे थे लेकिन वह पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में पहुंच गए थे जहां पाकिस्तानी सेना ने उन्हें हिरासत में ले लिया। अंतरराष्ट्रीय दबाव के कारण पाकिस्तान को 60 घंटें के अंदर विंग कमांडर को रिहा करना पड़ा था। इसके बाद से दोनों देशों की सेनाएं सीमा पर अधिक चौकसी बरत रही है।