निजामुद्दीन मुद्दे पर योगी सख्त, 157 में से 95 फीसदी का चला पता

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दिल्ली के निजामुद्दीन में धार्मिक समारोह में भाग लेकर राज्य की सीमा में दाखिल होने वाले सभी 157 लोगों को हर हाल में पता लगाने और क्वारंटाइन में भेजने के निर्देश दिए हैंं।

निजामुद्दीन की घटना से चिंतित योगी मंगलवार को मेरठ और आगरा का प्रस्तावित दौरा रद्द कर लखनऊ वापस लौट आए जहां उन्होंने आला अधिकारियों के साथ हालात की समीक्षा की।मुख्यमंत्री सहारनपुर और मेरठ की स्थिति की समीक्षा भी वीडियो कांफ्रेसिंग के जरिए करेंगे।

अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी ने यहां पत्रकारों को बताया कि पुलिस ने निजामुद्दीन मरकज में भाग लेने के बाद राज्य की सीमा में दाखिल हुए 157 में से 95 फीसदी लोगों का पता लगा लिया गया है जबकि अन्य की तलाश की जा रही है। इन लोगों के स्वास्थ्य की समुचित जांच के बाद इन्हे क्वारंटाइन के लिए भेजा जा रहा है। उन्होने कहा कि इस बारे में अब चिंता की कोई बात नहीं है।

इससे पहले दिल्ली के निजामुद्दीन में इसी महीने हुए धार्मिक समारोह में संगत करने वाले यूपी के 157 लोगों की सूचना मिलने पर अलर्ट जारी किया गया था। यह पता चला था कि प्रदेश के 19 जिलों से गए लोगों ने निजामुद्दीन मरकज में हिस्सा लिया था।

सूबे के पुलिस प्रमुख कार्यालय ने धार्मिक समारोह में भाग लेकर आए लोगों की सूची संबधित जिला प्रशासनों को सौंप दी है। इनमें सबसे ज्यादा 28 लोग मुजफ्फरनगर के और 20 लखनऊ के निवासी है।

अवस्थी ने कहा कि मुख्यमंत्री ने लॉकडाउन की स्थिति की भी समीक्षा की और लोगों की बेवजह आवाजाही रोकने के लिए सख्ती करने के निर्देश दिए। उन्होने कहा कि कल से बैंक भी बड़ी तादाद में लोग पहुंचेंगे, ऐसे मौके पर सोशल डिस्टेसिंग बनाए रखने के लिए पुलिसकर्मी तैनात किए जाएंगे।

अपर मुख्य सचिव ने लोगों से अपील करते हुए कहा कि यदि वह अपने घर के आसपास लोगों का समूह देखें तो तत्काल जिला प्रशासन को इत्तिला दें। उन्होंने कहा कि बरेली की घटना पर मुख्यमंत्री बेहद गंभीर थे जहां नगर निगम कर्मचारियों ने श्रमिकों को सैनीटाइज करने के मकसद से उन पर केमिकल की बौछार कर दी। उन्होंने जिम्मेदार अधिकारियों के खिलाफ कडी कार्रवाई करने के निर्देश दिए।

अवस्थी ने कहा कि प्रदेश में लाकडाउन का उल्लघंन करने वालों के खिलाफ सख्त कार्यवाही की जा रही है और आज तक इस सिलसिले में 6079 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की जा चुकी है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में 1291 कम्यूनिटी किचेन के जरिये चार लाख 62 हजार फूड पैकेट वितरित किए जा चुके हैं।