उत्तर प्रदेश में एक दिन में बना 25 करोड़ पौधारोपण का रिकार्ड

लखनऊ। पर्यावरण संरक्षण की दिशा में अहम पहल करते हुए उत्तर प्रदेश ने रविवार को एक ही दिन में 25 करोड़ से अधिक वृक्षारोपण का अनूठा कीर्तिमान बना दिया।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लखनऊ के कुकरैल वन में पौधा रोप कर मिशन वृक्षारोपण 2020 का शुभारंभ किया जिसके बाद प्रदेश के 75 जिलों में वृहद स्तर पर यह कार्यक्रम सम्पन्न हुआ। वन एवं पर्यावरण मंत्री दारा सिंह चौहान ने 25 करोड़ से ज्यादा वृक्षारोपण के लक्ष्य की प्राप्ति के लिए लोगों को बधाई दी है। उन्होंने कहा कि वन विभाग समेत इस कार्य में लगे 26 अन्य विभागों के अधिकारियों और कर्मचारियों के सहयोग से यह लक्ष्य प्राप्त हो सका।

उन्होंने पत्रकारों से कहा कि सरकार ने एक दिन में 25 करोड़ से ज्यादा वृक्षारोपण कार्यक्रम कराकर इतिहास रचने का कार्य किया है। इस वृक्षारोपण कार्यक्रम पर 10 देशों के लोगों ने हिट किया है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कुकरैल वन में पंचवटी, हरिशंकरी व नक्षत्र वाटिका की स्थापना एवं 51 प्रजातियों के 251 पौधों का रोपण किया। हर जिले में जन प्रतिनिधियों एवं विशिष्टजनों की उपस्थिति में वृक्षारोपण कार्यक्रम आयोजित किए गए।

सिंह ने कहा कि औषधीय पौधों, फलों एवं सहजन जैसे वृक्षों के उत्पाद रोग-प्रतिरोधक क्षमता में वृद्धि एवं पोशक तत्वों की पूर्ति कर हमें कोविड-19 जैसे रोगों से लड़ने में सक्षम बनाते हैं। वनस्पति व वन्य प्राणि विविधता कोविड-19 व अन्य खतरनाक वायरस व हानिकारक बैक्टीरिया के जैविक नियंत्रण में महत्वपूर्ण भूमिका का निर्वांहन करते हैं।

उन्होंने कहा कि प्रदेशवासियों विशेषकर महिलाओं व बच्चों में कुपोषण की समस्या देखते हुए ‘वृक्षारोपण मिशन 2020’ के अन्तर्गत प्रत्येक ग्राम के आवास के परिसर में सहजन का एक पौधा रोपित किया गया। पौधशालाओं एवं वृक्षारोपण में पौधों को पोषक तत्व देने के लिए जीवामृत का निर्माण पौधशालाओं में किया जा रहा है। जीवामृत/कम्पोस्ट का उपयोग समस्त पौधशालाओं में बडे पैमाने पर किया गया।

सिंह ने कहा कि वृहद् स्तर पर अभियान चलाकर 25 करोड़ पौधों के रोपण के लिए प्रदेश में गांव-गांव तक जाकर 57903 माइक्रोप्लान तैयार किये गये जिसके अनुसार माँग के अनुरूप प्रजातिवार यथा- सहजन, सागौन, शीशम, फाइकस, कंजी, अर्जुन, खैर, फलदार तथा अन्य प्रजातियों के पौधे पौधशालाओं में तैयार किए गए।

मानव जीवन के स्वास्थ्य, आजीविका, प्रतिरोधक क्षमता एवं जीवन बनाए व बचाए रखने में जैवविविधता की महत्वपूर्ण भूमिका के दृष्टिगत सम्पूर्ण विश्व जीवन के विविध रूपों को बनाए व बचाए रखने के लिए प्रयासरत है।

औरैया में वन महोत्सव के तहत 25 लाख पौधे लगाने के व्यापक अभियान की शुरुआत कृषि राज्यमंत्री लाखन सिंह राजपूत ने हवन पूजन और पौधा रोपण कर की। सुल्तानपुर में चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री जय प्रताप सिंह ने पंचवटी के वृक्ष बरगद का पेड़ लगाकर जिले में वृक्षारोपण का शुभारम्भ किया।

देवरिया में 26 लाख से अधिक वृक्षारोपण किया गया। प्रभागीय निदेशक सामाजिक वानिकी पी के गुप्ता ने बताया कि जिले में 26 लाख 22 हजार पौधरोपण के निर्धारित लक्ष्य के सापेक्ष 26 लाख 51 हजार 906 पौधे लगाए गए। लाला मुजहना में वन विभाग द्वारा 5 हेक्टेयर में 5500 पौधे तथा ग्राम बेलही में 2.7 हेक्टेयर में विकास विभाग द्वारा 3000 पौधे रोपित किए गए हैं।

कैबिनेट मंत्री चेतन चौहान ने अमरोहा की हसनपुर तहसील इलाके में पौधरोपण किया। उन्होंने कार्यक्रम स्थल पर लाउडस्पीकर व टेंट के साथ उपस्थित ग्रामीणों की भीड़ देखकर कोरोना महामारी का हवाला देते हुए एसडीएम व आयोजकों को कड़ी हिदायत दी।

जालौन में 4717151 लाख पौधारोपण का लक्ष्य निर्धारित किया गया था। जिलाधिकारी डाॅ मन्नान अख्तर ने ग्राम पंचायत राहिया विकास खण्ड डकोर में पौधा रोपण किया। उन्होंने कहा कि सभी को पर्यावरण की सुरक्षा के लिए वृक्ष लगाना आवश्यक है।

बहराइच में 51 लाख 56 हज़ार 610 पौधरोपण के लक्ष्य के साथ वन महोत्सव सप्ताह का श्रीगणेश सहकारिता मंत्री मुकुट बिहारी वर्मा ने किया। उन्होने विकास खण्ड फखरपुर अन्तर्गत बहराइच-लखनऊ मार्ग पर संजय ढाबा के निकट व प्यारेपुर गौशाला परिसर में विधि विधान के साथ पौध रोपण किया। इस अवसर पर सहकारिता मंत्री ने गौशाला में संरक्षित गोवशों की सेवा करते हुए रोटी व गुड़ भी खिलाया।