वाल्मीकि समाज के सामूहिक विवाह सम्मेलन में 9 जोडे विवाह बंधन में बंधे

अजमेर। नवल बस्ती ट्राम्बे स्टेशन एवं नवल मंदिर विकास समिति की ओर से रविवार को प्रथम वाल्मीकि मेहतर समाज सामूहिक विवाह सम्मेलन का धूमधाम से आयोजन किया गया।

समाज के हजारों लोगों की मौजूदगी में नौ जोडे विवाह बंधन में बंधे। विवाह मंडप में फेरे के दौरान पुष्पवर्षा कर वर—वधु को समाज के पंच पटेलों ने आशीर्वाद प्रदान किया।

आयोजन समिति के सदस्य मुकेश ढेंढवाल ने बताया कि इस सम्मेलन में अजमेर, सीकर, जयपुर और नसीराबाद से पंजीकृत नौ जोडों का विवाह सम्पन्न कराया गया। नवदंपतियों को उपहार स्वरूप घरेलू उपयोग में आने वाली वस्तुएं प्रदान की गईं। आभूषण के रूप में हर जोडे को सोने का मंगलसूत्र, मांग टीका समेत छह आइटम गोल्ड के और तीन आइटम चांदी के प्रदान किए गए। अलमारी तथा प्लास्टिकी की दो-दो कुर्सियां समेत बर्तन आदि भेंट किए गए।

सुबह करीब साढे नौ बजे दयानंद आश्रम केसरगंज से घोडों पर सवार नौ दूल्हों की बारात निकासी हुई। रास्ते में जगह जगह बारात का स्वागत किया गया। केसरगंज में बाजार के व्यपारियों ने स्वागत द्वार लगाए। रेगरान विकास समिति की ओर से भी बारात का स्वागत किया गया। डिग्गी बाजार ठठेरा चौक, खजूर रोड होते हुए बारात ट्राम्बे स्थित शिव मंदिर पहुंची।

पुराने आदर्श डिग्री कॉलेज के पास नवल बस्ती स्थित शिव मंदिर प्रांगण में तोरण के बाद विवाह की अन्य रस्में पूरी की गईं। इस अवसर पर मुख्य अतिथि के रूप में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता हेमंत भाटी मौजूद रहे। उन्होंने सामूहिक विवाह सम्मेलन जैसे महत्वपूर्ण आयोजन के लिए समाज को धन्यवाद दिया और कहा कि इससे अनावश्यक खर्च से बचा जा सकता है।

इस अवसर पर समाज के भैंरूलाल डांगोरिया, नौरतमल ढेंढवाल, बालाजी ढेंढवाल, पप्पू बोयर, घन्नाराम लोहरा, मोहन लाल ढेंढवाल, सुगनचंद लखन, संस्था अध्यक्ष मदनलाल ढेंढवाल, महामंत्री मुकेश ढेंढवाल, कोषाध्यक्ष कालूराम जाजोटर, राजू पंवार, सोनू गोयर, राजेश ढेंढवाल, रमेश चंद सारसर, भैंरूलाल टांक, अशोक टांक समेत बडी संख्या में समाज के गणमान्यजन मौजूद रहे।