लंदन से पहली फ्लाइट में 148 प्रवासी राजस्थानी जयपुर पहुंचे

जयपुर। लंदन से 148 प्रवासी राजस्थानियों की पहली उड़ान शुक्रवार को दोपहर जयपुर हवाई अड्डे पर पहंची। कोरोना महामारी में अपनों से दूर रह रहे प्रवासी अपनी घर वापसी पर बेहद खुश और उत्साहित दिखाई दिए।

हवाई अड्डे पर आरवीपीएनएल के प्रबंध निदेशक दिनेश कुमार ने व्यवस्थाओं को चाक चोबंद करवाते हुए अपनी देखरेख में सारी व्यवस्थाओं को सुनिष्चित करवा रहे थे। एयरपोर्ट पर आरोग्य सेतु और राजकोविड एप डाउनलोड करवाया गया। कुमार ने बताया कि लंदन से जयपुर आई फ्लाइट में 148 प्रवासी राजस्थानी जयपुर आए हैं।

उन्होंने बताया कि सरकार की एडवाइजरी और सुरक्षा प्रोटोकॉल की पालना कराते हुए उनके आते ही 20-20 की संख्या में थर्मल स्केनिंग, सोशल डिस्टेंसिंग की पालना कराते हुए मेेेडिकल चेक अप कराने, सीआईएसएफ अधिकारियों द्वारा लगेज कलेक्षन, कस्टम क्लयरेंस और सभी आवष्यक औपचारिकताएं पूरी कराकर बसों के माध्यम से निर्धारित होटलोें में से उनके द्वारा चाही गई होटल तक पहुंचाया गया है।

अतिरिक्त मुख्य सचिव डॉ. सुबोध अग्रवाल ने बताया कि फ्लाइट में आने वाले सभी 148 प्रवासी राजस्थानियों को सीधे होटलों में 14 दिन के अनिवार्य संस्थागत क्वारंटाइन पर भेजा गया है। उन्होंने बताया कि एयरपोर्ट में स्वास्थ्य मानकों की पूरी तरह से पालना कराते हुए पांच काउंटरों पर चिकित्सकों के दल द्वारा स्वास्थ्य परीक्षण किया गया।

उन्होंने बताया कि आवश्यक औपचारिकताएं पूरी होने के बाद एयरपोर्ट की आसपास की निर्धारित 10 होटलों में से फ्लाइट से आने वाले प्रवासी राजस्थानितयों को होटल चयन का अवसर दिया गया है और उनके द्वारा चयनित की गई होटल तक राज्य सरकार द्वारा तीन बड़ी और सात ट्रेवलर से होटल तक पहुंचाया गया है।

डा. अग्रवाल ने बताया कि राज्य सरकार ने तीन केटेगरी की होटलों का चयन किया है। इनमें हाई, मिडिल और स्टेण्डर्ड केटेगरी की होटलों में से प्रवासियों को होटल चुनने का अवसर दिया है। चुनी हुई होटल के अनुसार वहां पहुंचाने की व्यवस्था की गई है। उन्हांेने बताया कि 14 दिन का क्वारंटाइन पूरा होने पर इन यात्रियों का कोरोना टेस्ट करवाया जाएगा और निगेटिव रिपोर्ट आने पर जाने की अनुमति दी जा सकेगी।

डॉ. अग्रवाल ने बताया कि होटलों को जारी दिशा निर्देशों में डूज और डोन्टस की प्रभावी तरीके से डिस्पले करने के निर्देश दिए गए हैं। होटल परिसर में भी संस्थागत क्वारंटाइन के दौरान परिजनों या अन्य किसी को मिलने की अनुमति नहीं दी गई है।

उन्होंने स्पष्ट किया कि फ्लाइट से आने वाले किसी भी प्रवासी का होम क्वारंटाइन नहीं होकर संस्थागत क्वारंटाइन ही होगा। इसीलिए परिजनों व मिलने वालों को एयरपोर्ट और क्वारंटाइन सेंटर पर आने की सख्त मनाई है।