नागौर के पानी के सपने को हमने पूरा किया : वसुन्धरा राजे

vasundhara raje at inauguration rajasthan rural drinking water and fluoride disposal project jayal region nagaur

नागौर। राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे ने कहा है कि नागौर जिले के लोगों को मीठा पानी पिलाने का संकल्प हमारी सरकार ने ही पूरा किया है।

राजे मंगलवार को नागौर जिले के जायल में राजस्थान ग्रामीण पेयजल एवं फ्लोराइड निराकरण परियोजना के द्वितीय चरण के तहत क्षेत्र के 120 गांवों को पेयजल वितरण कार्य के शुभारम्भ समारोह को संबोधित कर रही थीं।

उन्होंने कहा कि करीब 22 साल पहले 1996 में हमारी ही सरकार ने नागौर जिले के लोगों को मीठा पानी उपलब्ध कराने का जो बीड़ा उठाया था, मुझे बहुत खुशी है कि वह आज पूरा हुआ।

इस अवसर पर उन्होंने 1394 करोड़ रुपए के विकास कार्यों का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया।
राजे ने कहा कि अपनी पिछली सरकार के समय 2003 से 2008 के दौरान मैंने यहां के लोगों की पीड़ा को नजदीक से देखा और इसे दूर करने के लिए मातासुख क्षेत्रीय जलप्रदाय योजना के जरिए शुद्ध जल पहुंचाने का काम शुरू किया।

यदि इसके बाद भी हमारी ही सरकार होती तो यह काम हम 2010-11 तक पूरा कर चुके होते। वर्ष 2015 में हमने ही नागौर लिफ्ट परियोजना के दूसरे चरण के तीन पैकेजों का कार्य शुरू किया था। दूसरे चरण से नागौर के सात कस्बों और 986 गांवों को मीठा पानी मिलेगा।

राज्य सरकार द्वारा किसानों सहित सभी वर्गों के हित में किए गए फैसलों का जिक्र करते हुए राजे ने कहा कि हमारी सरकार ने किसानों की ऋण माफी का जो ऐतिहासिक निर्णय लिया है, उससे 30 लाख से अधिक हमारे किसान भाइयों को फायदा होगा।

इसी तरह सहकारिता विभाग के माध्यम से किसानों को 80 हजार करोड़ रूपए से अधिक के ऋण उपलब्ध कराए गए हैं जो अपने आप में रिकॉर्ड है। अनुसूचित जाति और जनजाति सहकारी विकास निगम की ओर से दिए गए दो लाख रूपए तक के ऋण भी माफ किए हैं, जिससे बड़ी संख्या में युवाओं को राहत मिली है। इस दौरान मुख्यमंत्री ने मेधावी छात्राओं को स्कूटी तथा दिव्यांगों को मोटराइज्ड ट्राइसाइकिल भी वितरित की।