लता मंगेशकर के जीवन से आठ अंक का था नजदीकी रिश्ता

नई दिल्ली। महान गायिका लता मंगेशकर के जीवन में आठ अंक का काफी महत्व रहा था और आंकड़ों में यह बात स्पष्ट नजर आती है। लता मंगेशकर का आज 92 साल की उम्र में निधन हो गया।

क्रिकेट के आंकड़ेबाज श्रीकांत पोद्दार ने बेंगलूरु से फोन पर लता जी के जीवन और 8 अंक से उनकी नजदीकी के बारे में बताया। श्रीकांत ने बताया कि उनके जीवन में अंक 8 कई जगह पर मिलता है। लता जी का जन्म 28 सितम्बर को हुआ था। वह 8 जनवरी को अस्पताल गई थीं और 28 दिन अस्पताल में रही थीं। उनका छह फरवरी को निधन हुआ। यानी 6 और 2 को जोड़े तो आठ बनता है। उन्होंने 35 भाषाओं में गाना गाया जिसका जोड़ भी 8 है।

श्रीकांत ने बताया कि लता जी का बचपन का नाम हेमा था जो अंग्रेजी के एच से शुरू होता है और एच अंग्रेजी वर्णमाला का आठवां अक्षर है। वह आठ दशक से गायन से जुड़ी रही। वह आज सुबह 8 बज कर 12 मिनट पर हम सभी को छोड़ कर चली गई। लता जी के नाम में अक्षर ल से लय और ता से ताल यानी कि वो हमेशा लय और ताल में थी।

लता जी के नाम को अंग्रेजी में लिखे लता को देखेंगे एल अंग्रेजी वर्णमाला का 12वां अक्षर है जबकि ए पहला, टी बीसवां और ए पहला। इस तरह देखे 12+1+20+1=34 और 3+4= 7 यानी इनके नाम में ही संगीत के सात सुर थे। अंत में यह बात है कि लता के एल को शुरू से उठा कर अंत मे रख दें तो बनेगा अटल, इस प्रकार लता जी का नाम हमेशा अटल रहेगा।

जीवन संगीत की साधना में हमेशा के लिए लीन हो गईं स्वर कोकिला लता

जीवन संगीत की साधना में हमेशा के लिए लीन हो गईं स्वर कोकिला लता

जीवन संगीत की साधना में हमेशा के लिए लीन हो गईं स्वर कोकिला लता