विहिप की संस्कार शालाओं के वार्षिकोत्सव में संस्कारों की झलक

अजमेर। विश्व हिन्दू परिषद अजयमेरु महानगर की ओर से अशोक सिंघल मेमोरियल ट्रस्ट मुंबई के सहयोग से संचालित संस्कार शालाओं का वार्षिकोत्सव रविवार को दी जांगिड ब्राहमण को आपरेटिव बैंक के सभागार में आयोजित किया गया।

वार्षिकोत्सव के मुख्य अतिथि विहिप के अखिल भारतीय सहमंत्री आनंद गोयल, विशिष्ट अतिथि भामाशाह अमित भंसाली, नृसिंह मंदिर होली दडा के श्याम सुन्दर शरण देवाचार्य महाराज थे। अध्यक्षता विहिप अजमेर के महानगर अध्यक्ष सत्यनारायण भंसाली ने की।

इस मौके पर मुख्य अतिथि गोयल ने कहा कि वर्तमान समय में जिस तरह की समाज में अनेकानेक विकृतिया आ रही हैं उनका एकमात्र समाधान परिवार को संस्कारवान बनाकर किया जा सकता है। ये संस्कार कहीं से खरीदे नहीं जा सकते ना ही छीने जा सकते हैं। आज हर माता पिता की चाहत होती हैं कि उनकी संतान संस्कारवान बने। लेकिन ये संस्कार आएंगे कहां से इस पर कोई विचार नहीं कर रहा।

उन्होंने सुप्रीमकोर्ट में राम मंदिर निर्माण को लेकर चल रही सुनवाई का हवाला देते हुए कहा कि बहुत दुख की बात है कि भारत में ही पढे लिखे लोग राम को काल्पनिक पात्र बताते हैं, राम मंदिर निर्माण में नित नई बाधाएं पैदा करने का कुचक्र चल रहा है। एक तरफ हमारे वेद, पुराण जैसे ग्रंथों और हमारे ज्ञान का दुनिया में यशोगान हो रहा है वहीं देश में इसकी आलोचना करने से कई लोग बाज नहीं आ रहे। उन्होंने कहा कि हमारा स्वाभिमान जाग्रह हो ऐसी शिक्षा संस्कार शालाओं के जरिए प्रदान की जा रही है।

वार्षिकोत्सव के दौरान शहर में संचालित 23 संस्कार शालाओं के बालक बालिकाओं ने विभन्न सांस्कृतिक प्रस्तुतियां दीं। सांवरिया संस्कार शाला की आचार्य भावना ने गणेश वंदना से कार्यक्रम का आगाज किया। संस्कार शाला प्रमुख राजेश पराशर ने वार्षिक प्रतिवेदन प्रस्तुत कर संस्कार शालाओं के बारे में विस्तार से जानकारी दी।

राम कृष्ण संस्कार शाला के बच्चों ने वृक्ष बचाओ जीवन पाओं थीम पर आधारित लघु नाटिका सेव ट्री का मंचन कर खूब तालियां बटोरीं। प्रगति संस्कार शाला की बालिकाओं ने संस्कृत मंत्र उच्चारण के जरिए सबका मन मोह लिया। राम कृष्ण संस्कार शाला की ओर से राजस्थानी गीत पर सामूहिक नृत्य की प्रस्तुति दी गई। मां भारती संस्कार शाला की ओर से जिसको जीवन में मिला सत्संग है…भजन पर माहौल भक्तिमय हो गया।

राम कृष्ण, मां दुर्गा और वीर हनुमान संस्कार शाला के बच्चों ने गीता श्लोक प्रथम अध्याय की कंठस्थ प्रस्तुति दी। गौरी शंकर संस्कार शाला के बच्चों ने देश भक्ति गीत ऐ मेरे वतन आबाद रहे तू…पर शानदार नृत्य प्रस्तुत किया। इसी तरह प्रगति संस्कार शाला के बच्चों ने चलो चले सरकारी स्कुल गीत पर नृत्य पेश किया। कार्यक्रम में पैरोडी, नाटक सौतेली मां, दिव्यांग बच्चों पर आधारित नृत्य को खूब सराहना मिली।

श्रेष्ठ प्रस्तुति देने वाली संस्कार शालाओं के बालक बालिकाओं को आगंतुक अतिथियों ने पुरस्कृत किया। भारत माता की आरती के साथ कार्यक्रम का समापन हुआ। इस मौके पर विहिप के शशि प्रकाश इंदोरिया, लेखराज सिंह राठौड, देवेन्द्र जादम समेत बडी संख्या में पदाधिकारी भी मौजूद रहे।