विज्ञान जागरूकता परीक्षा के विजेता पुरुस्कृत

अजमेर। भारत सदैव सत्य की खोज में चलने वाला राष्ट्र रहा है, यहां के विद्यार्थी नैसर्गिक प्रतिभा युक्त हैं परन्तु हम भारतीय विज्ञान के पूर्वजों को भूल रहे हैं। विज्ञान भारती इन्हीं भारतीय विज्ञान विचारकों के अमूल्य योगदान को हमारे समक्ष रख रही है।

ये विचार मुख्य अतिथि के एवं मुख्य वक्ता के रूप में रुक्टा राष्ट्रीय के महामंत्री नारायणलाल गुप्ता ने विज्ञान भारती अजयमेरु के बैनर तले आयोजित की जाने वाली विज्ञान जागरूकता परीक्षा के पुरस्कार वितरण समारोह में मोइनिया इस्लामिया राजकीय विद्यालय में व्यक्त किए।

उन्होंने कहा कि शून्य की संकल्पना भारतीय वेदों में मिलती है। जबकि हमारी दृष्टि विदेशों में अधिक रमती है। अतः आज आवश्यकता है भारतीय विज्ञान के पुनर्जागरण काल को और अधिक विकसित करने की जिसमें हमारे विद्यार्थी अपना योगदान देकर राष्ट्रोन्नति में सहयोग कर सकते हैं।

कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए माध्यमिक शिक्षा बोर्ड राजस्थान के अध्यक्ष बीएल चौधरी ने कहा कि विज्ञान के क्षेत्र में भारत के जितने भी उदाहरण दिए जाते हैं वे किसी भी अन्य देश में उपलब्ध नहीं हैं। विवेकानंद जैसे महापुरुष ने भारतीय जनमानस में भारतीय विज्ञान की चेतना का बीज बोया। हमारे विद्यार्थियों को उनसे प्रेरणा लेकर भारतीय विज्ञान प्रतिभा का लोहा वर्तमान में भी मनवाते रहना चाहिए।

विज्ञान भारती के क्षेत्रीय संरक्षक पुरुषोत्तम परांजपे ने नोबल पुरस्कार से सम्मानित सर सीवी रमन के जीवन और विज्ञान के क्षेत्र में उनके योगदान पर विस्तृत प्रकाश डालते हुए कहा कि उनका रमन प्रभाव, प्रकाश प्रकीर्णन का सिद्धांत, अणुओं की रचना, भारतीय वाद्य यंत्रों की मधुरता आदि खोजों ने सम्पूर्ण विश्व में भारत का नाम रोशन कर दिया।

विज्ञान भारती चित्तौड़ प्रान्त के सचिव गोविंद पारीक ने विज्ञान भारती संस्था का परिचय प्रस्तुत करते हुए कहा कि भारतीय विज्ञान, वैज्ञानिकों और उनकी उपलब्धियों को राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलाने का महती कार्य कर रही है।

उन्होंने खगोल और भूगोल शब्दों की व्याख्या करते हुए भारतीय विज्ञान के वैभवपूर्ण स्तर पर प्रकाश डाला और बताया कि विज्ञान भारती राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर के कार्यक्रम आयोजित करती है।

विज्ञान भारती अजयमेरु के अध्यक्ष पीराराम सोनी ने औपचारिक धन्यवाद प्रस्तुत किया और कहा कि निजी और राजकीय विद्यालयों के विद्यार्थियों ने वर्षभर विज्ञान भारती के कार्यक्रमों में बढ़चढ़कर भाग लिया और अपनी रचनात्मकता का परिचय दिया।

मुख्य अतिथि और बोर्ड अध्यक्ष ने विज्ञान जागरूकता परीक्षा के विजेता छात्र छात्राओं को प्रमाण पत्र एवं स्मृति चिन्ह भेंट कर पुरस्कृत किया। कार्यक्रम का संचालन सावित्री राजकीय कन्या विद्यालय की प्रधानाचार्या लीलामणि गुप्ता ने किया।