आजमगढ में प्रधान की हत्या के बाद भड़की हिंसा, दो पुलिसकर्मी निलंबित

आजमगढ़। उत्तर प्रदेश में आजमगढ़ के तरवा क्षेत्र में अज्ञात बदमाशों ने एक ग्राम प्रधान की गोली मार कर हत्या कर दी। दुस्साहिक वारदात के बाद पुलिस वाहन की चपेट में आने से एक किशोर की मौत हो गई। घटना के बाद क्षेत्र में हिंसा भड़क उठी और आक्रोशित ग्रामीणों ने पुलिस चौकी में आग लगा दी।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने ग्राम प्रधान की हत्या तथा दुर्घटना में एक बच्चे की मृत्यु काे गंभीरता से लेते हुए शोक संतप्त परिजनों के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त की है। उन्होंने अनुसूचित जाति/जनजाति एक्ट के तहत दी जाने वाली सहायता राशि के अलावा मुख्यमंत्री सहायता कोष से पांच पांच लाख रुपए की अतिरिक्त धनराशि पीड़ितों के परिजनों को दिए जाने की घोषणा की है। उन्होंने सम्बन्धित थानाध्यक्ष तथा चौकी इंचार्ज को तत्काल प्रभाव से निलम्बित करने के भी निर्देश दिए हैं।

पुलिस सूत्रों ने बताया कि बासगांव गांव के प्रधान सत्यमेव जयते उर्फ पप्पू कहीं जा रहे थे कि इस बीच वहां खड़े बदमाशों ने प्रधान को पास बुलाया और पहुंचते ही उनके सिर में गोली मार दी जिससे प्रधान की मौके पर ही मृत्यु हो गई। घटना की सूचना मिलते ही ग्रामीण आक्रोशित हो गए और उन्होने पुलिस चौकी को घेर लिया और तोडफोड शुरू कर दी।

भीड़ से बचने के लिए पुलिस ने वाहन के जरिए निकलने के प्रयास किया कि एक किशोर वाहन की चपेट में आ गया और उसकी मृत्यु हो गई। इसके बाद बेकाबू भीड़ हिंसा पर उतारू हो गई और उसे पुलिस चौकी में आग लगा दी जबकि कई वाहनों में तोडफोड की।

सूत्रों ने बताया कि घटना की सूचना मिलते ही कई थानों की फोर्स मौके पर बुला ली गई और भीड़ को काबू करने के लिए लाठीचार्ज किया गया। क्षेत्र में स्थिति फिलहाल नियंत्रण में है लेकिन तनाव बरकरार है।

योगी ने अपराधियों के विरुद्ध गैंग्स्टर एक्ट के तहत कार्यवाही कर उनकी सम्पत्ति जब्त करते हुए एनएसए लगाने के निर्देश दिए हैं। साथ ही, इस तरह की घटना के लिए जिले के अधिकारियों के खिलाफ भी कार्यवाही करने के निर्देश दिए हैं।