धोनी-धोनी की आवाजें लगाकर पंत पर दबाव ना बनाएं : विराट कोहली

हैदराबाद। भारतीय कप्तान विराट कोहली ने क्रिकेट प्रशंसकों से अपील की है कि वह स्टैंड में धोनी-धोनी की आवाजें लगाकर युवा विकेटकीपर बल्लेबाज रिषभ पंत पर दबाव ना बनाएं।

विराट ने वेस्टइंडीज के खिलाफ शुक्रवार को होने वाले पहले टी-20 मुकाबले की पूर्व संध्या पर आज संवाददाता सम्मेलन में यह अपील की। विराट ने इस तरह पंत को अपना समर्थन दिया जो पिछले कुछ महीनों में स्टंप्स के आगे बल्ले से और स्टंप्स के पीछे दस्तानों से भारी दबाव झेल रहे हैं। इससे पहले सीमित ओवरों के उपकप्तान रोहित शर्मा ने भी पंत का समर्थन किया था।

भारतीय कप्तान ने प्रशंसकों से अपील की कि वह स्टैंड में धोनी-धोनी की आवाजें ना लगाएं क्योंकि इससे पंत पर भारी दबाव बन जाता है। धोनी जुलाई इंग्लैंड में एकदिवसीय विश्वकप के बाद से भारतीय टीम के लिए नहीं खेले हैं लेकिन उन्होंने अभी तक अपने संन्यास की घोषणा नहीं की है जिसके कारण यह अटकलें लग रही हैं कि वह ऑस्ट्रेलिया में अगले वर्ष होने वाले टी-20 विश्वकप में जगह बना सकते हैं।

इस वर्ष ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ घरेलू वनडे सीरीज के फिरोजशाह कोटला मैदान में खेले गए निर्णायक मुकाबलों में दर्शक उस समय धोनी-धोनी की आवाजें लगाने लगे जब पंत द्वारा लिया गया डीआरएस असफल रहा था। बांग्लादेश के खिलाफ हाल की सीरीज में राजकोट में खेले गए मैच में जब पंत ने लिटन दास की स्टंपिंग का मौका गंवा दिया तब भी दर्शक धोनी-धोनी चिल्लाने लगे।

सीनियर चयन समिति के अध्यक्ष एमएसके प्रसाद भी कह चुके हैं कि अब धोनी से आगे बढ़ने का समय है और टीम प्रबंधन पंत पर अपना सारा फोकस कर रहा है। विराट ने भी कहा कि हमें पंत की क्षमताओं में विश्वास है। यह हम सभी की सामूहिक जिम्मेदारी है कि किसी भी खिलाड़ी पर दबाव ना बनाएं और उसे खुद के साबित करने का मौका दें। यदि वह कोई मौका चूकता है तो इसका मतलब यह नहीं है कि लोग धोनी-धोनी चिल्लाने लगे। यह सम्मानजनक नहीं है।

कप्तान ने कहा कि कोई भी खिलाड़ी ऐसा होता देखना नहीं चाहता है। यदि आप अपने देश में खेल रहे हैं तो आपको समर्थन मिलना चाहिए ना कि लोग यह ढूंढे कि उस खिलाड़ी की क्या गलती है। कोई भी खिलाड़ी ऐसी स्थिति में रहना नहीं चाहता है।

बांग्लादेश के खिलाफ राजकोट टी-20 के बाद रोहित ने पंत का बचाव किया था और कहा था कि पंत पर दबाव नहीं बनाया जाना चाहिए। विराट ने भी कहा कि रोहित ने सही कहा था कि पंत को अपना गेम खेलने देना चाहिए। वह एक मैच विजेता खिलाड़ी है और वह इस बात को साबित कर देगा।

पंत को भारत की टेस्ट टीम से रिलीज कर सैयद मुश्ताक अली टी-20 ट्राफी में खेलने के लिए कहा गया था जहां उन्होंने अपनी घरेलू टीम दिल्ली के लिए सुपरलीग मैचों में ओपनिंग की लेकिन फ्लॉप रहे। पंत को वेस्टइंडीज के खिलाफ टी-20 सीरीज के लिए टीम में बरकरार रखा गया लेकिन दूसरे युवा विकेटकीपर बल्लेबाज संजू सैमसन को बाहर कर दिया गया। हालांकि ओपनर शिखर धवन के चोटिल होने के बाद संजू को टीम में लिया गया है।

यह पूछने पर कि शिखर की अनुपस्थिति में क्या पंत को ओपनिंग में उतारा जा सकता है, विराट ने कहा कि नहीं ऐसा नहीं है। भारत के पास शीर्ष क्रम के चार अच्छे बल्लेबाज हैं और लोकेश राहुल की रोहित के साथ ओपनिंग की जिम्मेदारी संभालेंगे। आपको यह देखना होता है कि सही क्रम के लिए सही खिलाड़ी मौजूद रहे।