विश्व आदिवासी दिवस ‘वालर नृत्य’ में झलकी आदिवासी संस्कृति

सिरोही/आबूरोड। विश्व आदिवासी दिवस के अवसर पर आदिवासी बहुल भाखर क्षेत्र के निचलागढ़ राजीव गांधी सेवा केंद्र परिसर में रविवार को आदिवासी संस्कृति का जीवंत रूप देखने को मिला। कलाकारों ने परंपरागत नृत्यों की एक से बढकर एक प्रस्तुतियां दीं

डोलाराम की पार्टी ने किया वालर नृत्य

आदिवासी सामाजिक लोकप्रिय वालर की शानदार प्रस्तुतियों के रूप में वाद्य यंत्र सिर पर लेकर सभी को मंत्रमुग्ध कर दिया। इसके बाद निचला खेजडा के दल ने अति प्राचीन आदिवासी समाज के ढाक वादन की यादें जीवंत कर दी।

आदिवासी परम्परा के अनुरूप बहुमान

इस मौके पर गरासिया समाज सेवा समिति जिला अध्यक्ष पूराराम गरासिया, पूर्व प्रधान अणदाराम गरासिया, रामलाल रणोरा, पाबा सरपंच सोमाराम गरासिया, उपला खेजड़ा सरपंच कोदरीबाई, उपला गढ़ सरपंच, भवनाराम, निचला गढ़ सरपंच रेखा कुमारी, पूर्व सरपंच सरमीबाई, निचला खेजड़ा निवासी नरसाराम परमार, निचलागढ के पूर्व उपसरपंच नरसाराम सोलंकी, लिंबाराम मंसाराम मुदरला, जोधाराम, मनसाराम मीणा चांपर, नगा राम, जगाराम, संजय कुमार आदि का बारी-बारी से मंच पर स्वागत सम्मान किया गया।