राहुल गांधी ने मोदी को ‘चाेर’ के बाद अब डरपोक बताया

गुवाहाटी। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ‘डरपोक’ बताया और कहा कि चौकीदार(मोदी) केवल चाेर ही नहीं बल्कि डरपोक भी है।

गांधी ने यहां चुनावी सभा को संबोधित करते हुए मोदी पर करारा हमला बोला और कहा कि यही कारण है कि कभी भी वह (मोदी) भ्रष्टाचार पर बहस कराने की चुनौती को स्वीकार नहीं कर सके। उन्होंने कहा कि जब मैंने मोदी से भ्रष्टाचार पर बहस कराने का अनुरोध किया तब उन्होंने इसकी चुनौती को स्वीकार करने के बजाय भाग गए। क्याेंकि यदि भ्रष्टाचार पर बहस होती तो राफेल सौदे की सच्चाई सामने आ जाती।

गौरतलब है कि इससे पहले जब गांधी ने मोदी को ‘चोर’ बताया था तो जवाब में मोदी ने खुद को ‘चौकीदार’ ठहराया था। गांधी के ताजी टिप्पणी को लेकर भारतीय जनता पार्टी के खेमे की ओर से तत्काल कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है।

गांधी ने कहा कि मैंने मोदी से राफेल सौदे पर चार आसान सवाल पूछे। वह संसद में एक-डेढ़ घंटे तक बोले, लेकिन एक बार भी मुझसे आंख मिलाने की हिम्मत नहीं कर सके।

मोदी को चंद सबसे अमीर भारतीयों का ‘चौकीदार’ बताते हुए कांग्रेस अध्यक्ष ने आरोप लगाया कि मोदी-सरकार ने विमुद्रीकरण और जीएसटी के माध्यम से जनता का पैसा छीन लिया। उन्होंने कांग्रेस की सरकार बनने की स्थिति में ये पैसे वापस लौटाने का वादा भी किया।

देश के सबसे गरीब 20 प्रतिशत परिवारों को प्रति वर्ष 72,000 रुपए देने का वादा करने वाली कांग्रेस की योजना ‘न्याय’ की चर्चा करते हुए गांधी ने कहा कि यह पैसा सीधे परिवार की महिला सदस्य के बैंक खाते में जमा किया जाएगा।

महिला कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष सुष्मिता देव सहित असम की बराक घाटी से कांग्रेस के दो युवा उम्मीदवारों को वोट देने की अपील करते हुए उन्होंने कहा कि कांग्रेस के घोषणापत्र में राज्य विधानसभा और संसद में महिलाओं के लिए 33 फीसदी आरक्षण का वादा किया गया है।

उन्होंने विशेष रूप से पहले तीन वर्षों तक बिना किसी अनुमति के नए व्यवसायों की शुरुआत करके स्वरोजगार को बढ़ावा देकर युवाओं के लिए रोजगार के नए अवसरों को प्रदान करने का भी आश्वासन दिया।

उन्होंने अपनी पार्टी के सत्ता में आने पर राज्य में दो पेपर मिलों को फिर से खोलने का भी वादा किया। इनमें से पेपर मिल बराक घाटी में है। उन्होंने बराक घाटी के लोगों के लिए सुरक्षित पेयजल, देश के बाकी हिस्सों के साथ संचार संपर्क और इसे भारत और अन्य एशियाई देशों के बीच व्यापार के केंद्र के रूप में विकसित करने का आश्वासन दिया।

खराब मौसम के कारण गांधी के कार्यक्रम स्थल पर पहुंचने में देरी हुई। कांग्रेस प्रमुख ने भी प्रतीक्षा के लिए भीड़ से माफी मांगी और बारिश एवं विलंब के बावजूद उनके वहां मौजूदगी को लेकर उन्हें धन्यवाद दिया।

गांधी के आगमन से पहले कार्यक्रम स्थल पर मौजूद प्रेस गैलरी के एक हिस्से में आग लग गई और कुछ पत्रकार झुलस गए थे। असम के दक्षिणी हिस्से में स्थित बराक घाटी की दो संसदीय सीटों करीमगंज और सिलचर में 18 अप्रैल को दूसरे चरण में मतदान होंगे। देव सिल्चर सीट से दूसरी बार अपनी किस्मत आजमा रही हैं जबकि करीमगंज में ऑल इंडिया यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट के उम्मीदवार मैदान में हैं।